IIT करेगा आने वाले दिनों में मुंबई में जर्जर पुलों का निर्माण

मुख्यमंत्री ने बुधवार को विधान परिषद में इसकी घोषणा की

SHARE

राज्य के मुख्यमंत्री  देवेंद्र फडणवीस  ने बुधवार को विधान परिषद में कहा कि आने वाले दिनों में मुंबई में जर्जर पुलों का निर्माण आईआईटी मुंबई द्वारा विकसित की गई नई टेक्नोलॉजी के आधार पर किया जाएगा। इसके साथ ही उन्होने कहा की   सीएसटीएम पुल हादसे में दोषियों पर कार्रवाई की गई है और  यदि स्ट्र्क्चरल ऑडिट का काम मुंबई मनपा उपायुक्त और चीफ इंजीनियर के दायरे में आता है तो उसकी पड़ताल करके, उन पर भी कार्रवाई की जाएगी।


आईआईटी पवई में बनाई गई नई टेक्नोलॉजी से पूल का  निर्माण तीन से छह महीने में किया जा सकता है। लिहाजा इस तकनीक का इस्तेमाल करके आने वाले दिनों में पुलों का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मनपा के अधीन सभी 344 पुलों में से 304 पुलों का ढांचागत सर्वेक्षण किया गया था।  पूर्व व पश्चिम उपनगर के 223 पुलों का फिर से स्ट्रक्चरल ऑडिट किया गया है, जबकि 81 पुलों का फिर से स्ट्रक्टचरल ऑडिट का काम प्रगतिपथ पर है।


पुल निरीक्षक का पद निर्माण


इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने विधानमंडल को बताया की  मुंबई मनपा के पुल विभाग में नए में प्रमुख पुल निरीक्षक का पद निर्माण किया गया है। मनपा के अधीन सभी पुलों का हर दो वर्ष में निरीक्षण कर रिपोर्ट देना, आवश्कतानुसार मरम्मत कामों का प्रस्ताव देना साथ ही रेलवे और मनपा से सामंजस्य बनाने की जिम्मेदारी प्रमुख पुल निरीक्षक की होगी।

यह भी पढ़े- पुलिस की वर्दी पहनकर विधान परिषद पहुंचे एनसीपी विधायक प्रकाश गजभिए

संबंधित विषय