parel fire: मौत को सामने देख आखिरी समय में शुभदा ने लिया यह निर्णय


SHARE

परेल स्थित 16 मंजिला क्रिस्टल बिल्डिंग में आग लगने से 4 लोगों की मौत हो गयी और 20 से अधिक जख्मी हो गए। आग सुबह 8:30 बजे लगी थी जिसे दमकल कर्मियों ने 12 बजे तक बुझा दिया गया। लेकिन मौत का सामना करने वाले इस हादसे को ताउम्र नहीं भूल पाएंगे। 

इस आग में 62 वर्षीय शुभदा शिर्के नामकी एक महिला की मौत हो गयी। शुभदा की बेटी सरयू शिर्के बताती हैं कि हादसे का शिकार होने से पहले उनकी मां ने फोन पर उनसे बात कर आग लगने की जानकारी दी थी और मैंने उन्हें तुरंत घर से बाहर निकलने की सलाह दी, लेकिन उसी समय फोन कट गया।

क्या हुआ था उस समय 
सरयू मुंबई लाइव से सुबह हुए हादसे की याद शेयर करते हुए कहतीं हैं कि सुबह 8 बजे के लगभग मां ने मुझे फोन किया तो उनकी आवाज में घबराहट थी। सरयू कहती हैं कि उस समय मैं काम पर जाने की आपधापी में थी, जब मां की घबराई हुई आवाज सुनी तो मैं भी घबरा गयी और पूछने पर मां ने बिल्डिंग में आग लगने की जानकारी दी तो मैंने तुरंत मां को लॉबी में जाने की सलाह दी और तत्काल वहां आने की बात कही, लेकिन तब तक फोन कट गया।

सरयू आगे कहती हैं कि जब मैं किसी तरह से वहां पहुंची तो पुलिस वाले ऊपर नहीं जाने दे रहे थे, और मां का फोन भी नहीं लग रहा था। जब मैंने सारी बात पुलिस को बताई तो उन्होंने कहा कि सभी घायलों को केईएम अस्पताल भेजा गया है।

जब मैं वहां पहुंची तो मेरी मां की डेडबॉडी रखी हुई थी, डॉक्टरों ने बताया कि इनकी मौत दम घुटन की वजह से हुई।  

शायद शुभदा को यह आभास हो गया था कि वे अब नहीं बचेंगी, इसीलिए आखिरी समय उन्होंने अपनी बेटी सरयू से बात करने का निर्णय लिया।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें