कल्याण के पतरी पुल को गिराया गया, रेलवे यातायात पूर्ववत

यात्रियों को अन्य कोई परेशानी न हो इसीलिए केडीएमटी और एसटी की तरफ से अतिरिक्त बसों को सड़कों पर उतारा गया था।केडीएमटी की तरफ से हर 10 से 15 मिनटों पर तो एसटी की तरफ से 25 से 30 मिनट पर बसों को छोड़ा जा रहा था।

SHARE

मध्य रेलवे के स्टेशन कल्याण में खतरनाक हो चुके 102 साल पुराना पतरी पुल रविवार को इतिहास बन गया। रविवार सुबह 9 बजे से रेलवे ने इस तोड़ने का काम शुरू किया जिसे लगभग छह घंटे बाद यानी 3 बजे तक तोड़ दिया गया। इस पुल को तोड़ने के लिए मध्य रेलवे ने आज जंबो ब्लॉक घोषित किया था, जिसके बाद आवागमन सुचारु हो सका।

आपको बता दें कि यह पतरी पुल 102 साल पुराना था, जिसे खतरनाक घोषित किया गया था। इसीलिए रेलवे ने इसे छुट्टी के दिन यानी रविवार को गिराने का निर्णय लिया ताकि आम चालू दिन आम लोगों को परेशानी से बचाया जा सके। खास बात यह रही कि रेलवे ने यह काम बड़ी ही सफाई से किया, यानी इस काम के लिए न तो कोई ट्रेन कैंसिल की गयी न ही कोई ट्रेन लेट हुई और न ही किसी ट्रेन के समय में बदलाव किया गया। हां, रेलवे ने जरूर जम्बो ब्लॉक की घोषणा की थी।

यात्रियों को अन्य कोई परेशानी न हो इसीलिए केडीएमटी और एसटी की तरफ से अतिरिक्त बसों को सड़कों पर उतारा गया था।केडीएमटी की तरफ से हर 10 से 15 मिनटों पर तो एसटी की तरफ से 25 से 30 मिनट पर बसों को छोड़ा जा रहा था।

अब रेलवे इस पुराने पतरी पुल की जगह नए पुल बनाने का निर्णय लिया है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें