300 रुपये कमानेवाले मजदूर को मिला 1.05 करोड़ को नोटिस

आयकर विभाग ने नोटिस में कहा है की उसने कथित तौर पर विमुद्रीकरण(नोटबंदी) के दौरान अपने बैंक खाते में 58 लाख रुपये जमा किए थे।

SHARE

ठाणे में रहनेवाले 35 साल के एक  मजदूर को आयकर विभाग ने नोटिस भेजा है।   आयकर नोटिस में  उसे 1.05 करोड़ रुपये का भुगतान करने के लिए कहा गया है। आयकर विभाग ने नोटिस में कहा है की उसने कथित तौर पर विमुद्रीकरण(नोटबंदी) के दौरान अपने बैंक खाते में 58 लाख रुपये जमा किए थे।

300 रुपये की रोजाना कमाई
भाऊसाहेब अहीरे (35), जो दैनिक मजदूरी के रूप में 300 रुपये कमाते हैं, अपने ससुर के घर पर पत्नी पूनम और दो बेटियों जिया और रिया के साथ अंबिवली के गालगांव गाँव में रहते हैं। उस्मानाबाद जिले के रहने वाले अहीर पिछले छह साल से यहां रह रहे हैं। अहीरे ने पुलिस को बताया कि एक निजी बैंक में फर्जी दस्तावेजों और जाली हस्ताक्षर के साथ उसका खाता बनाया गया था।

अहीरे ने कहा कि उन्हें पिछले साल 5 सितंबर को 2016 के नोटबंदी अभियान के दौरान एक निजी बैंक में खाते में जमा राशि के बारे में पहला नोटिस मिला था। फिर उसने आईटी कार्यालय और बैंक से संपर्क किया और पाया की उसके पैन का इस्तेमाल गलत खाता खोलने के लिए किया गया था। 7 जनवरी को, अहिरे ने कहा कि उन्हें फिर से 1.05 करोड़ रुपये का कर नोटिस मिला है।

अहिरे की शिकायत के बाद, टिटवाला पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक, बालाजी पंधारे ने कहा, "ठाणे ग्रामीण एसपी डॉ. शिवाजी राठौड़ ने हमें मामले की जांच करने का आदेश दिया है।"

यह भी पढ़े- अजमेर बम धमाके का दोषी लापता

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें