Advertisement

कोरोना की वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट में लगी भीषण आग, 5 की मौत, विपक्ष को किसी साजिश की आशंका

आग कैसे लगी, इस बारे में भी कोई पुख्ता जानकारी सामने नहीं आई है, लेकिन आशंका शार्ट सर्किट की जताई जा रही है।

कोरोना की वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट में लगी भीषण आग, 5 की मौत, विपक्ष को किसी साजिश की आशंका
Credit: ANI
SHARES

आग लगने की एक चौंकाने वाली खबर सामने आ रही है। कोरोना की वैक्सीन (corona vaccine) बनाने वाली सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of indiaकी बिल्डिंग में आग लगने की खबर है। सीरम की यह बिल्डिंग महाराष्ट्र में पुणे (pune) में स्थित है। बताया जाता है कि, बिल्डिंग की जिस कमरे में आग लगी है वह निर्माणाधीन है।

आग की सुचना मिलने के बाद मौके पर आठ फायर ब्रिगेड (fire brigade) की गाड़ियां पहुंच गई और आग को काबू में करने का प्रयास कर रही हैं।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, इस आग से कोरोना की वैक्सीन 'कोविशिल्ड' (covishield) के उत्पादन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

बता दें कि, 'कोविशिल्ड' को ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय (oxford university) और ब्रिटिश-स्वीडिश फार्मा एस्ट्राज़ेनेका फर्म के साथ एसआईआई द्वारा विकसित किया जा रहा है।

समाचार लिखे जाने तक आग बुझाने का कार्य चल रहा था।

Update

पुणे के मेयर मुरलीधर मोहोल ने मीडिया से बात करते हुए जानकारी दी है कि पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट में लगी आग से 5 लोगों की मौत हो गई है। इस बात की आशंका है कि जिन 5 लोगों की मौत हुई है, उनमें सभी वे श्रमिक हैं, जो निर्माणकार्य में लगे हुए थे। हालांकि इमारत में लगी आग को पूरी तरह से बुझा दिया गया है।

 सीरम इंस्टीट्यूट में बीसीजी प्लांट के इमारत की तीसरी मंजिल पर आग लग गई थी, लेकिन यह आग चौथी और पांचवीं मंजिल तक फैल गई।  आग लगने की सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड की 10 गाड़ियां मौके पर पहुंच गईं।

बीसीजी वैक्सीन को उस संयंत्र में विकसित किया जाता है जहां प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए आग लगी।  आग उसी इमारत में लगी, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीरम इंस्टीट्यूट का दौरा किया था।  कोरोनोवायरस वैक्सीन जिस स्थान पर बनाया गया है वह लंबा है, सीरम ने कहा।

आग के संबंध में मीडिया से बात करते हुए, स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी महत्वपूर्ण जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जिला कलेक्टर राजेश देशमुख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, दोपहर 2 बजे इमारत की तीसरी मंजिल पर वेल्डिंग का काम चल रहा था, तभी पास के एक ज्वलनशील उपकरण में आग लग गई।

फायर ब्रिगेड ने लगभग 2 से 3 घंटे की मेहनत के बाद, आग पर काबू पाया। आग बुझाने के बाद जब फायरकर्मी अंदर गए तो, 5 लोगों की लाशें मिलीं।

इस आग को लेकर विपक्ष ने किसी साजिश की आशंका को व्यक्त किया है। इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि, "उन्हें (विपक्ष) यह जानकारी कैसे मिली?" यह एक रहस्य है कि सर्जिकल स्ट्राइक जैसी अन्य चीजों को कैसे जाना लेेतेे है। उनका ज्ञान अपार है।  यदि आपके पास कुछ ज्ञान आदि है, यदि आपके पास जानकारी है, तो आपको अवश्य हमें भी बताना चाहिए।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें