गलती एमएमआरडीए की, भुगत रही बीएमसी

 CST
गलती एमएमआरडीए की, भुगत रही बीएमसी

मुंबई महानगर प्रदेश विकास प्राधिकरण (एमएमआरडीए) के द्वारा बनाये जा रहे मोनोरेल से इस्टर्न फ्री वे वडाला मार्ग की स्थिति बेहद ही ख़राब हो गयी है। मोनोरेल के कार्य से सड़क सीमेंट काँक्रीट के पैनेल टूट गये हैं। जिन्हें बनाने में अब करीब 18.60 करोड़ रूपये खर्च किये जायेंगे। एमएमआरडीए की इस गलती को अब बीएमसी भुगत रही है क्योंकि इसकी मरम्मत का कार्य अब बीएमसी के जिम्मे है।

एफ-उत्तर विभाग में स्थित आणिक-वडाला मार्ग का कांक्रीटीकरण वर्ष 2000 में किया गया था। यह जमीन बेहद ही दलदली थी लेकिन बीएमसी के अधिकारियों ने अपनी मेहनत और तकनीकी की सहायता से यहां पक्की सड़क का निर्माण किया। यह सड़क 5.50 किमी लंबा और 36.58 मीटर चौड़ी है, लेकिन इस रास्ते में एमएमआरडीए की तरफ से बनाये जा रहे मोनो रेल और फ्रीवे के पीलर्स के सीमेंट काँक्रीट के पैनल पूरी तरह से टूट गये हैं। बीएमसी ने इस टूटे हुए पैनल को तत्काल बनाने का निर्णय लिया है जिसके कारण सड़क का केवल एक रास्ता खोला गया है। जिसके कारण सड़क का केवल एक रास्ता खोला गया है। इस सड़क को बनाने के लिए इसी पैनल का उपयोग किया गया था।

इस काम के लिए ठेकेदारों की नियुक्ति की गयी है। मनपा ने इसका बजट लगभग 18 करोड़ रूपये रखा है। बीएमसी के इस औचक खर्चे का जिम्मेदार एमएमआरडीए है जिसका खामियाजा अब बीएमसी को भुगतना पड़ रहा है।

Loading Comments