ऑनलाइन दवाओं की बिक्री के विरोध में केमिस्टों का "जाहीर मोर्चा"!

मुंबई के केमिस्टो का कहना है की ऑनलाइन फार्मेसी द्वारा दी जानेवाली दवाईयां बिना डॉक्टर के परामर्श के दी जाती है!

SHARE

ऑनलाइन दवाओं की बिक्री यानी की "ऑनलाईन फार्मसी" की संख्या दिन बा दिन बढ़ती जा रही है। जिसके कारण अब लोग केमिस्ट की दुकानों पर ना जाकर ऑनलाइन ही दवाईयां खरिदना पसंद कर रहे है। लेकिन कई बार लोग डॉक्टर की सलाह के बिना ही ऑनलाइन दवाईयां मंगा लेते है जिससे लोगों की सेहत को काफी बड़ा नुकसान होता है। जिसे देखते हुए मुंबई के केमिस्टो ने 16 जुलाई को बांद्रा के एफडीए कार्यालय के सामने एक विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया है।

डॉक्टर के परामर्श की दवाईयां
मुंबई के केमिस्टो का कहना है की मेडिकल स्टोर्स द्वारा दी जानेवाली दवाईयां बिना डॉक्टर के परामर्श के नहीं दी जाती है, लेकिन ऑनलाइन कंपनियां बिना किसी डॉक्टर के परामर्श के ही दवाईयां दे देती है। ऑनलाइन फार्मेसी के कारण युवाओं में नशे की दवाईयों की लत या फिर टैबलेट खाने की आदत बढ़ सकती है और कई बार इन औषधियों के सेवन से युवाओं की सेहत पर भी रिएक्शन हो सकता है।

यह भी पढ़े- 'दवाइयां खरीदने से पहले उस पर लिखी चेतावनी जरूर पढ़ें'

" ऑनलाइन केमिस्ट के द्वारा राज्य में 8 लाख केमिस्ट और और उनमें काम कर रहे 40 लाख लोगों की रोजीरोटी पर असर पड़ सकता है,जिसका विरोध करने के लिए हमने 16 जुलाई को बांद्रा के कलानगर स्थित एफडीए के कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया है"- महाराष्ट्र स्टेट केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन मुंबई जोन के अध्यक्ष हुकुमराज मेहता और सचिव सुनील छाजेड

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें