बदल रही है मुंबई के डब्बेवालों की सवारी, साइकिल के जगह अब धीरे धीरे मोटरसाइकिल ले रही जगह

मुंबई के डब्बेवाले अब धीरे धीरे मोटरसाइकिल का रुख कर रहे है, जिससे ना ही सिर्फ उनके समय की बचत होती है बल्की वो एक बार में ज्यादा टिफिन भी ले जा सकते है।

  • बदल रही है मुंबई के डब्बेवालों की सवारी, साइकिल के जगह अब धीरे धीरे मोटरसाइकिल ले रही जगह
SHARE

मुंबई के डब्बावालों को किसी पहचान की कोई जरुरत नहीं है। मुंबई के ये डब्बेवाले आज मुंबई की शान बन गये है। चाहे बारिश हो या तपती धूप, डब्बेवाले लोगों के टिफिन को समय पर लोगों के पास पहुंचाते है। और इन सब मे जो हमेशा डब्बेवालो के साथ खड़ी रही है वो रही उनकी साइकिल। ना जाने कितने डब्बों को बोझ ढोनेवाली साइकिल ने हमेशा डब्बेवालों का साथ दिया है। लेकिन अब यही सवारी धीरे धीरे बदली जा रही है। साइकिल जगह अब धीरे धीरे मोटरसाइकिल लेती जा रही है।



केईएम अस्पताल का नाम बदलकर डॉ. आनंदीबाई जोशीं रखने की मांग, मनसे ने बीएमसी कमिश्नर को दिया आवेदन


होती है समय की बचत

दरअसल भागती दौड़ती मुंबई में समय का काफी महत्व है। जैसे जैसे दिन गुजरता जा रहा है वैसे वैसे मुंबई में जनसंख्या बढ़ती जा रही है और इसी के साथ बढ़ता जा रहा है टिफिनवालों का काम। भागती दौड़ती मुंबई में अपने आपको समय के साथ रखने और ज्यादा से ज्यादा लोगों के पास टिफिन पहुंचाने के लिए मुंबई के डब्बेवाले अब धीरे धीरे मोटरसाइकिल का रुख कर रहे है, जिससे ना ही सिर्फ उनके समय की बचत होती है बल्की वो एक बार में ज्यादा टिफिन भी ले जा सकते है।


बीएमसी अस्पताल ने जारी किया हेल्थ कार्ड: एक क्लिक पर उपलब्ध होगी सारी मेडिकल हिस्ट्री


ऐसा नहीं है की डब्बेवालो ने साइकिल सा साथ छोड़ दिया है। अभी भी कई जगहों पर जाने के लिए डब्बेवाले साइकिल का ही इस्तेमाल करते है। लेकिन जैसे जैसे समय बीतता जाएगा, डब्बेवाले भी पूरी तरह से अपनी सवारी बदल सकते है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें