ओला-उबर की स्ट्राइक पर क्या है मुंबईकरों की राय..?

मुंबई - ओला और उबर कंपनी के वाहन चालकों ने मंगलवार को भले अपनी हड़ताल वापस ले ली हो, लेकिन उससे यात्रियों को हुई परेशानी का क्या? अपनी अलग-अलग मांगो को लेकर ओला और उबर के वाहन चालक आजाद मैदान पर हड़ताल पर बैठे थे। हड़ताल के कारण यात्रियों को इसकी सजा भुगतनी पड़ी।

महीने में एक लाख से लाकर सवा लाख रूपये तक कमाने का लालच देकर कई लोगों को फंसाने का आरोप ओला और उबर कम्पनी पर लगा है। पीड़ितों की मानें तो ओला और उबर ने प्रचार के माध्यम से यह वादा किया था कि अगर कोई अपनी गाड़ी लेकर आता है तो उसे महीने के एक से सवा लाख रूपये तक कमाने को मिल सकता है। इस लालच में फंस कर कई लोगों ने लोन पर गाड़िया ले ली। लेकिन उनकी उतनी कमाई नहीं हो रही है कि वे अपना लोन भर सके। इसी के खिलाफ ओला, उबर ड्राइवरों ने हड़ताल शुरू की थी, जिससे ओला और उबर के यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। इस दौरान यात्रियों को हुई परेशानी उन्होंने मुंबई लाइव से शेयर की।

Loading Comments