म्हाडा की धोखादायक इमारतों की लिस्ट में नही था केशरबाई इमारत का नाम

दुर्घटनाग्रस्त इमारत 100 साल पुरानी थी

SHARE

मंगलवार को मुंबई के डोंगरी इलाके में केसरबाई नाम की एक इमारत का उपरी हिस्सा गिर गया।  इस हादसे में जहां एक ओर लगभग 10  लोगों की मौत हो गई तो वही दूसरी ओर अभी भी कई लोग इमारत के नीचे फंसे हुए है। इमारत मंगलवार की सुबह लगभग 11.30 बजे अचानक गिर गई।  बताया जा रहा है की ये इमारत म्हाडा की है और इसे रिडेवलेपमेंट के लिए म्डाहा ने एक विकासक को दे दिया था।  हालांकी इसी दौरान ये बात भी सामने आ रही है की म्हाडा की इस इमारत का नाम खतरनाक इमारतों की सुची में नहीं था।  

100 साल पुरानी इमारत

हादसे के बाद राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने इस मीडिया से बात करते हुए बताया की "दुर्घटनाग्रस्त इमारत 100 साल पुरानी थी , इस इमारत को  खतरनाक इमारत सूची में शामिल नहीं किया गया था, पुनर्विकास के लिए इमारत को डेवलपर को दिया गया और  मलबे के नीचे फंसे लोगों को निकालने का काम युद्धस्तर पर शुरू किया गया"

इमारत में रहने वाले करीब 40-50 लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका है। दमकल विभाग, मुंबई पुलिस और निकाय अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। राहत एवं बचाव कार्य जारी है। बचाव कार्य में मदद के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की टीम भी मौके पर पहुंच गयी है।

यह भी पढ़े- डोंगरी में इमारत गिरी, 40 से 50 लोग फंसे

संबंधित विषय