Advertisement

बाबासाहेब अंबेडकर की पुण्यतिथि पर किसी भी आगंतुक को चैत्यभूमि जाने की अनुमति नहीं- बीएमसी

बीएमसी ने अम्बेडकर के अनुयायियों से कहा है कि वे मुंबई के दादर में चैत्यभूमि की यात्रा न करें, इस वर्ष महामारी के कारण डॉ। भीमराव रामजी अम्बेडकर की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी जाए।

बाबासाहेब अंबेडकर की पुण्यतिथि पर किसी भी आगंतुक  को चैत्यभूमि जाने की अनुमति नहीं-  बीएमसी
SHARES

कोरोनोवायरस (CORONAVIRUS) के प्रकोप के बीच, बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) ने कहा है कि इस वर्ष डॉ भीमराव रामजी अंबेडकर के अनुयायियों को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि देने के लिए मुंबई के दादर में चैत्यभूमि (Chaityabhoomi) की यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

ऑनलाइन टेलीकास्ट की व्यवस्था

हालांकि, बीएमसी ने दावा किया है कि उसी के लिए एक ऑनलाइन प्रसारण (Online telecast)  की व्यवस्था की जाएगी।  हर साल 6 दिसंबर को देश भर में लाखों लोग पुण्यतिथि पर उनका सम्मान करने के लिए चैत्यभूमि जाते हैं।  इस दिन को 'महापरिनिर्वाण दिवस' के रूप में मनाया जाता है।  इस वर्ष महामारी के मद्देनजर, बीएमसी ने नागरिकों से अपील की है कि वेे कोरोना से जुड़े नियमो का पालन करें।

इसके अलावा, शुक्रवार 20 नवंबर को, बीएमसी के अतिरिक्त नगर आयुक्त संजीव जायसवाल ने 6 दिसंबर को व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिए चैत्यभूमि का दौरा किया। बीएमसी ने पहले शहर में प्राकृतिक जल निकायों में छठ पूजा के बड़े उत्सवों पर प्रतिबंध लगाया था और श्रद्धालुओं को महामारी को देखते हुए भीड़ से बचने के लिए कहा था।  सूर्य देव को समर्पित त्योहार शुक्रवार, 20 नवंबर और शनिवार, 21 नवंबर को उन लोगों द्वारा मनाया गया, जो मूल रूप से उत्तर भारत से आते हैं और महानगर में रहते हैं।

हालांकि, शहर में मनाए जाने वाले अन्य उत्सवों की तरह, बीएमसी ने कोरोनोवायरस संक्रमण के प्रसार से बचने के लिए बड़े पैमाने पर छठ पूजा समारोह के बारे में दिशानिर्देश जारी किए थे।  पूर्व में, वार्षिक उत्सव में सूर्योदय और सूर्यास्त के समय सूर्य को अर्घ्य देने के लिए प्रमुख समुद्र तटों, नदी तटों और अन्य जल निकायों में बड़ी संख्या में भक्तों की भीड़ देखी जाती थी।

यह भी पढ़ेजो लोग ड्रग्स का सेवन करते हैं उन्हें रिहैब के लिए भेजा जाना चाहिए, न कि जेल: नवाब मलिक

Read this story in मराठी or English
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें