Advertisement

महाराष्ट्र सरकार के कर्मचारियों के लिए जल्द ही सप्ताह में केवल 5 दिन काम करने का आदेश

हालांकी इसके लिए उन्हें इसे कार्यस्थल पर रोजाना 45 मिनट अतिरिक्त लगाना होगा, जिसका मतलब है कि एक सप्ताह में 3.75 अतिरिक्त घंटे।

महाराष्ट्र सरकार के कर्मचारियों के लिए जल्द ही सप्ताह में केवल 5 दिन काम करने का आदेश
SHARES

राज्य सरकार(state goverment) के कर्मचारियों(employee) को जल्द ही केंद्र सरकार में अपने समकक्षों की तरह सप्ताह में केवल दिन करने का आदेश जारी हो सकता है। हालांकी इसके लिए उन्हें इसे कार्यस्थल पर रोजाना 45 मिनट अतिरिक्त लगाना होगा, जिसका मतलब है कि एक सप्ताह में 3.75 अतिरिक्त घंटे।हालांकि, इस 5-दिवसीय कार्य व्यवस्था से सभी आपातकालीन सेवाओं(emergency services)  को बाहर रखा जाएगा। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस मांग पर सहमति जताई और निर्देश दिया कि प्रस्ताव को कैबिनेट की मंजूरी के लिए तुरंत प्रस्तुत किया जाए।

अनुपस्थिति पर अंकुश 

कर्मचारियों की इस मांग के पीछे मुख्य तर्क यह है कि यह अनुपस्थिति पर अंकुश लगाएगा, बेहतर परिवार-कार्यस्थल संतुलन को जन्म देगा और इससे उत्पादकता और दक्षता बढ़ेगी। राज्य सरकार के राजपत्रित अधिकारियों के संगठन ने अपनी विभिन्न लंबित मांगों पर चर्चा करने के लिए मंगलवार को सीएम ठाकरे के साथ बैठक की। प्रमुख मांगों में से एक 5-दिन का कार्य सप्ताह था और सभी शनिवार और रविवार को अवकाश था।

वर्तमान मेंराज्य सरकार के कर्मचारियों को दूसरे और चौथे शनिवार को छुट्टियां मिलती हैं। फडणवीस सरकार के दौरान इस व्यवस्था के तौर-तरीकों का अध्ययन करने के लिए एक उच्च-स्तरीय समिति का गठन किया गया था और यह इसके पक्ष में आया था। सीएम ठाकरे को इससे अवगत कराया गया था।

यह भी समझाया गया कि 45 मिनट अतिरिक्त काम एक अतिरिक्त आधे दिन के काम के बराबर होना चाहिए। प्रशासन में कोई भी प्रस्ताव के विरोध में नहीं था। बैठक में मौजूद एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "मुख्यमंत्री ने सभी पक्षों को सुनने के बाद अमन-चैन कायम रखा।" मुख्यमंत्री फडणवीस भी 5-सप्ताह के सप्ताह में सैद्धांतिक रूप से सहमत हो गए थे, लेकिन अंतिम निर्णय नहीं लिया गया था।

यह भी पढ़े- विजया रहाटकर ने दिया महिला आयोग के पद से इस्तीफा

Read this story in English
संबंधित विषय