डॉक्टर मारपीट मामला : अस्पताल में तैनात जवानों की संख्या कम

 A 43
डॉक्टर मारपीट मामला : अस्पताल में तैनात जवानों की संख्या कम
डॉक्टर मारपीट मामला : अस्पताल में तैनात जवानों की संख्या कम
डॉक्टर मारपीट मामला : अस्पताल में तैनात जवानों की संख्या कम
डॉक्टर मारपीट मामला : अस्पताल में तैनात जवानों की संख्या कम
See all

डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए अलग अलग अस्पतालों में 400 सुरक्षा जवानों को तैनात किया गया है। लेकिन मुद्दा यह है कि क्या इससे डॉक्टरों पर हो रहे हमले रुक जाएंगे। क्या तैनात रक्षक अपना काम ठीक से निभा रहे हैं।
इसको लेकर मुंबई ने केईम और नायर अस्पताल जाकर एक पड़ताल की। इस पड़ताल में मुंबई लाइव ने पाया कि जवान मरीजो को देखने के लिए आने वाले परिजनों की तलाशी लेकर ही उन्हें अंदर जाने दिया जा रहा था साथ ही उन्हें पास भी मुहैया कराया जा रहा था।

केइएम अस्पताल के सहायक अध्यक्ष मिलिंद साल्वे में कहा कि सुरक्षा के बाबत अलार्म भी लगाए गये हैं। जिसके बजते ही पुलिस और सुरक्षा जवान अस्पताल में पहुंचकर स्थिति को नियंत्रण में कर लेंगे। साल्वे ने आगे कहा कि केइएम अस्पताल में 80 जवानों की तैनाती की गयी है जिसमें से 15 बन्दुकधारी हैं, जिसमें से 131 जवान अस्पताल प्रशासन ने खुद तैनात किया है। इन जवानों को मुख्य प्रवेश द्वार 1,2,3, 7, आपातकालीन विभाग और अतिदशता विभाग (आईसीयू) में तैनात किया गया है।

अगर आंकड़ों पर नजर डाले तो तैनात जवानों की संख्या काफी कम है। केइएम अस्पताल में लगभग 7 हजार मरीज हैं। अगर एक मरीज को देखने के लिए कम से कम 2 परिजन भी आते हैं तो इनकी संख्या लगभग 21 हजार तक हो जाती है। अब इतनी संख्या में जवान कम ही हैं।

अब जिन जवानों की तैनाती की जा रही हैं उनके खर्च का जिम्मा पालिका उठाएगी या फिर अस्पताल प्रशासन, अभी इस बारे में तय नही हुआ है।

इस बारे में जेजे अस्पताल के डीन डॉ. तात्याराव लहाने ने आशा जताई है कि जवानों की तैनाती से मारपीट में कमी आएगी। जबकि नायर अस्पतला में भी सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गये हैं। नायर अस्पताल के मुख्य प्रवेशद्वार, अपघात विभाग और अतिदक्षता विभाग में भी जवान तैनात हैं।

Loading Comments