दादर के पारसी कॉलनी को मिलेगा हेरिटेज लुक, पेड़ काटने को लेकर रहिवासियों का विरोध

 Dadar
दादर के पारसी कॉलनी को मिलेगा हेरिटेज लुक, पेड़ काटने को लेकर रहिवासियों का विरोध

दादर के पारसी कॉलनी को हेरिटेज क्षेत्र के नाम से घोषित करने के बाद इस इलाके में 80 रास्तों का चौरिकरण किया जाएगा। इस इलाके में कई रास्ते अंदरुनी हिस्से में है। स्थानिय लोगों का आरोप है की विकासक को फायदा पहुंचाने के लिए दादर की पारसी कॉलनी की संप्रुभता के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।
राज्य सरकार ने निर्णय लिया है की जिन रास्तो की चौड़ाई 9 मीटर से कम है उन रास्तों का चौरिकरण करके उनका विकास किया जाये। नगररचना विभाग के अनुसार बीएमसी के एफ उत्तर विभाग में 80 रास्तों की लिस्ट तैयार की गई है। जिसमे दादर पारसी कॉलनी के 30 रास्तों का भी नाम शामिल है। तो वही सायल किला के पास के 6 से 6 रास्तो का समावेश है।

इंडियन जिमखाना से होगी शुरुआत

माटुंगा पूर्व भाग के अंदरुनी रास्तों के चौरीकरण कार्य के लिए इंडियन जिमखाना की ओर से शुरुआत किया जाएगा। रास्तों के चौरिकरण के लिए इस इलाके में पेड़ो को भी काटा गया है।

पासरी कॉलनी के 4 हजार रहिवासियों का विरोध

पारसी कॉलनी में रास्तों के चौरिकरण का विरोध स्थानिय लोगों ने किया है। इलाके के लगभग 4000 लोगों ने इस प्रस्ताव का विरोध किया है। 4000 लोगों ने अभी तक इस प्रस्ताव के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान चला रखा है। रहिवाशी शेरॉय दावेर का कहना है की विकासकार्यों के चलते इस इलाके की पहचान और हमारे पुर्वजो के निशान मिट जाएंगे। जिससे इस इलाके के संप्रुभता पर भी असर पड़ेगा।
इस इलाके में रास्तों के चौरिकरण के लिए तीन मैदान और गार्डन की जगह जाएगी। पारसी कॉलनी को हैरिटेज क्षेत्र कहा जाता है। इल इलाके के हरियाली के विनाश को हमारा विरोध है। इस बाबत महापालिका आयुक्त,हेरिटेज अध्यक्ष, विकासनियोजन प्रमुख अध्यक्ष, स्थायी समिती अध्यक्ष और गटनेताओ से बात की जाएगी। अगर इसके बाद भी बीएमसी ने इस कार्य को जारी रखा तो यहां के सारे स्थानिय निवासी शांतीपुर्ण तरिके से इसका विरध करेंगे।
पारसी कॉलनी के साथ साथ हिंदू कॉलनी में पेड़ो की होगी कटाई
दादर के पारसी कॉलनी के साथ साथ हिंदब कॉलनी में भी रास्तों के चौरिकरण के लिए पेड़ो की कटाई की जाएगी। इस इलाके में इसके पहले भी विकास कार्य हुए है लेकिन पेड़ो को काटकर इस इलाके में विकास करना गलत है। इससे इस इलाके की हरियाली खत्म हो जाएगी। शिवसेना के स्थानिक नगरसेवक अमेय घोले का कहना है की स्थानिय लोगों की मांगो को वो बीएमसी आयुक्त के सामने रखेंगे।

दादर पारसी कॉलनी हैरिटेज इलाका होने के बाद भी इस इलाके में इमारतो के विकास के लिए कोई भी समस्या नहीं है। रस्ता विभाग के प्रमुख अभियंता विनोद चिठोरे का कहना है की जिन इमारतो के यहां खाली जगह है उन्ही इमारतो के पास रास्तो का चौरिकरण किया जाएगा।


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 

Loading Comments