सहारनपुर हिंसा पीडितों ने सुनाया अनुभव

 Prabhadevi
सहारनपुर हिंसा पीडितों ने सुनाया अनुभव

सहारनपुर में दलितों में हुए अत्याचार के बाद बुलढाणा इलाके में एक दलित महिला के साथ असमाजिक व्यवहार करनेवाले आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिले इसके लिए 12 जून यानी मंगलवार को महाराष्ट्र के अलग अलग सामाजिक संगठनों के एक साथ मिलकर इसके लिए विरोध प्रदर्शन किया। राज्यपाल को इस संबंध में साथ ही एक आवेदन पत्र दिया गया है। भारत में एसी कई घटनाएं कई बार हो चुकी है वाबजूद इसके सरकार इस मुद्दे पर गंभीर नहीं दिख रही है। सहारनपूर और बुलढ़ाना में हुए हादसे के बाद कई समाजसेवियों ने पिड़ितों से जाकर मुलाकात की।

13 जून को मुंबई में एक कार्यक्रम में  सहारनपूर के कुछ दलित पिड़ितों ने अपनी आप बिती लोगों को सूनाई। प्रभादेवी के भूपेश गुप्ता भवन इस संवाद का आयोजन किया गया। बुलधाणा में 2 मई को एक दलित महिला के साथ असमाजिक व्यवहार हुआ। जिसके बाद 9 मई को एक सामाजिक कार्यकर्ता शारदा नवले ने बुलढाणा में जाकर महिला से मुलाकात की। खैरलांजी कांड की हवा अभी तक शांत भी नहीं हुई थी की महाराष्ट्र के बुलढाणा में हुई इस शर्मनाक घटना ने राज्य की सुरक्षा व्यवस्थाओं पर एक बार फिर से सवाल खड़ा कर दिया है।


इस मौके पर उपस्थित रही सहारनपूर की दलित पिड़िता अग्नी भास्कर ने अपने उपर हुए अत्याचार के बारे में लोगों को बताया। अग्नी भास्कर ने इस मौके पर यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी पर जमकर निशाना साधा। भास्कर ने योगी सरकार पर जातिवाद का आरोप लगाया। अपने दर्द को बयां करते हुए भास्कर ने कहा की वो योगी सरकार के पहले बाबासाहेब आंबेडकर के साथ साथ कई अन्य सामाजिक बुद्धजिवियों के मुर्तियां बनाने का काम करती थी। कुछ लोग मेरे काम से नाखुश थे और मेरी रोजी रोटी बंद करवाना चाहते थे। जिसके कारण हमारे उपर अत्याचार किया गया। और नाही सरकार और पुलिस ने हमारा साथ दिया।

इस कार्यक्रम में रिटायर्ड आय जी एस आर धारावी, उत्तर प्रदेश के समाजसेवक राम कुमार , पत्रकार सुरेश गुप्ता भी मौजूद थे


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 

Loading Comments