शिवभोज योजना- दूसरे दिन 13,500 लोगों ने खाया खाना

पहले दिन, 26 जनवरी, 11,147 प्लेटें परोसी गई थी

SHARE

महा विकास आघाड़ी सरकार की महत्वाकांक्षी शिवभोज योजना को काफी अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। 10 रुपये में भोजन देने की इस योजना का गरीबों को मिल रहा है।  पहले दिन, 26 जनवरी, 11,147 प्लेटें परोसी ग तो वही दूसरी ओर 27 जनवरी को, 13,500 प्लेटें परोसी गईं। प्रायोगिक आधार पर शुरू की गई यह योजना विधान परिषद चुनाव की आचार संहिता के कारण यवतमाल में नहीं चल सकी।राज्य सरकार द्वारा चिन्हित कैंटीनों में दोपहर 12 बजे से 2 बजे के बीच भोजन परोसा जाता है। वे प्रति दिन 500 प्लेटों की सेवा करने वाले हैं।

और भी आउटलेट बढ़ाएगी सरकार

शुरु 50 आउटलेट / कैंटीन खोले गए हैं, और सरकार नियत समय में इस संख्या को बढ़ाना चाहती है। लंच प्लेट या थाली में दो चपाती, एक सब्जी सब्ज़ी, चावल और दाल शामिल हैं। खाद्य और नागरिक आपूर्ति राज्य भर में योजना के कार्यान्वयन के लिए नोडल विभाग है। शिवसेना, जो अब महा विकास अघडी सरकार का नेतृत्व करती है, ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में इस योजना का वादा किया था। यह तमिलनाडु में अम्मा उनवागम योजना और कर्नाटक में इंदिरा कैंटीन के समान है।

 10 रुपये प्रति प्लेट
खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल ने कहा की योजना का लक्ष्य 10 रुपये प्रति प्लेट सस्ती और गुणवत्ता वाला भोजन प्रदान करना है। यह योजना जिला मुख्यालय में शुरू की गई है” मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और वह मंगलवार को कुछ शिवभक्त कैंटीन संचालकों के साथ वेब लिंक के माध्यम से एक संवाद करेंगे।

भुजबल ने कहा कि विभाग को एक ऐप के माध्यम से इन कैंटीनों में दी जाने वाली प्लेटों की संख्या की जानकारी प्राप्त होगी।उन्होंने यह भी बताया कि सरकार ने योजना के लिए तीन महीने के लिए 6.48 करोड़ रुपये रखे हैं और लोगों की प्रतिक्रिया को देखते हुए इसे बढ़ाया जाएगा। 

यह भी पढ़ेशिव भोजन- 10 रुपये में दाल,चावल, रोटी और सब्जी , खाने की क्वालिटी भी अच्छी

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें