'अवैध धर्मिक स्थलों को मिले मान्यता'

 BMC
'अवैध धर्मिक स्थलों को मिले मान्यता'

मुंबई में 29 सितम्बर 2009 के बाद 482 अवैध धार्मिक स्थलों पर कार्रवाई की गई। लेकिन अब बीएमसी की कुर्सी पर काबिज शिवसेना ने मांग की है कि अब तक सभी धार्मिक स्थलों को मंजूरी दी जाए। शिवसेना की मांग है कि धार्मिक स्थल लोगों की आस्था और श्रद्धा का प्रतीक होता है इस पर सहानुभूति पूर्वक विचार करना चाहिए। बता दें कि हाईकोर्ट ने सभी राज्य सहित मुंबई के अवैध धार्मिक स्थलों को तोड़ने का निर्देश दिया हुआ है।

मनपा सभागृह के नेता यशवंत जाधव ने प्रस्ताव पेश कर यह मांग की। इस प्रस्ताव के अनुसार राज्य सहित मुंबई मनपा में अंतर्गत आने वाले विविध अवैध बांधकाम को नियमित करने की मांग की है। राज्य भर में बने अवैध धार्मिक स्थलों के विरोध में मुंबई हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गयी है। जिसमें कोर्ट ने सभी अवैध धार्मिक स्थलों को हटाने का आदेश दिया है।

जाधव ने आगे बताया कि राज्य सरकार ने स्थानीय लोकल बॉडी की सहायता से अवैध धार्मिक स्थलों पर कार्रवाई की प्रकिया को अंजाम दे रही है, जिससे लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँच रही है। उन्होंने आगे कहा कि इस देश में विभिन्न जाती धर्म के लोग रहते हैं। जिन्होंने अपने धर्म के अनुसार धर्मिक स्थलों का निर्माण किया हुआ है। इसीलिए सभी धर्मों का सम्मान करना चाहिए।

जबकि कोर्ट के आदेशनुसार बीएमसी ने 29 सितम्बर 2009 के बाद सभी बने हुए अवैध धार्मिक स्थलों पर कार्रवाई करने का कार्यक्रम तैयार  किया हुआ है, जबकि अनेक धार्मिक स्थलों को नोटिस भी दिया हुआ है। इस सूची में कुल 482 अवैध स्थलों को चिन्हित किया गया है।


डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 



.

Loading Comments