मौत के बाद नहीं 'शांति'

दादर- दादर श्मशान भूमि की हालत काफी खराब है। श्मशान भूमि के किनारे मानव शरीर की जली हुई खोपड़ियां पड़ी हुई हैं। इसपर अभी तक किसी भी प्रशासनिक अधिकारी ने कार्रवाई नहीं की हैं। दादर शिवसेना और मनसे का गढ़ माना जाता है। बीएमसी और स्थानीय नगरसेवक तोइसे अपनी गलती ही नहीं मानते। मरने के बाद भी इन लाशों को शांति के लिए भटकना पड़ता है।

इस लापरवाही पर कोई भी सरकारी अधिकारी जवाब देने को तैयार नहीं है और ना ही कोई भी नेता इस पर जिम्मेदारी लेने के लिए। मुंबईकरों ने इस मुद्दे पर जमकर प्रशासन को लताड़ा है।

Loading Comments