विद्यापीठ की जगह पर झोपड़ों का सर्वेक्षण शुरू करने का आदेश

 Mumbai University
विद्यापीठ की जगह पर झोपड़ों का सर्वेक्षण शुरू करने का आदेश

मुंबई विद्यापीठ में सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद विद्यापीठ की जगह पर अतिक्रमण कैसे हुआ? यह सवाल विद्यापीठ प्रशासन से गृहनिर्माण राज्यमंत्री रवींद्र वायकर ने पूछा है। उन्होंने कहा कि अतिक्रमित झोपडपट्टीवासियों के पुनर्वसन की दृष्टी से झोपड़ियों के सर्वेक्षण का कार्य तुरंत शुरू किया जाए। वायकर के इस आदेश से कलीना विदयापीठ परिसर के वाल्मिकी नगर में रहने वाले झोपडपट्टीवासियों को राहत मिली है।

वाल्मिकी नगर में झोपडपट्टीवासियों से संबंधित एक विशेष बैठक वायकर के ऑफिस में हुई। विद्यापीठ की जगह पर 1998 से अतिक्रमण शुरूआत हुई। 2007 में अतिक्रमण हटवाने के लिए पुलिस की मदद से झोपड़ियों को हटाया गया, लेकिन फिर से रातोरात यहां पर झोपड़ियां तैयार करने की जानकारी तत्कालीन विद्यापीठ के कुलसचिव डॉ. एम. ए. खान ने दी। यह जगह विद्यापीठ की होने और इस जगह पर झोपू योजना तैयार नहीं करने का आदेश उच्च न्यायालय द्वारा देने की जानकारी उच्च और तकनीकी शिक्षण विभाग द्वारा दी गई।
झोपडपट्टीवासियों के पुनर्वसन करने की जरूरत को देखते हुए सर्वेक्षण का आदेश दिया गया है। विद्यापीठ की मदत से सर्वेक्षण कार्य करने का आदेश दिया गया है। इस सर्वेक्षण के अनुसार पात्र रहिवासियों का कहां और कैसे पुनर्वसन किया जाए, इससे संबंधित प्रस्ताव राज्य सरकार के सामने रखा जाएगा, ऐसा आश्वासन वायकर ने झोपडपट्टीवासियों को दिया है।

Loading Comments