गेटवे के पास शौचालय पर गिरी बीएमसी की गाज

 Gateway of India
गेटवे के पास शौचालय पर गिरी बीएमसी की गाज

गेटवे ऑफ इंडिया के पास के सार्वजनिक शौचालय से दुर्गंध आने और साफ सफाई ना होने के बाद भी यहां पर लोगों से शौचालय के नाम पर 5-5 रुपये लिये जाते थे। शिकायत मिलने के बाद बीएमसी ने इस शौचालय की देखरेख करनेवाले सुलभ संस्था के साथ अपना करार रद्द कर दिया। ये अपने आप की मुंबई में पहली घटना है।

यह भी पढे- क्या है बीएमसी की नई पार्किंग नीति? जानें

कुछ दिनों पहले ही बीएमसी ने इस शौचालय को नोटीस जारी कर संस्था से जवाब मांगा था। जिसके बाद भी संस्था ने शौचालय की देखरेख पर कोई खास ध्यान नही दिया। आखिरकार गुरुवार को बीएमसी ने सुलभ संस्था से इस शौचालय की देखरेख करनेवाली संस्था सुलभ के साथ अपना करार रद्द कर दिया।

यह भी पढे- बेस्ट के इस कदम से टैक्सी वालों को लगा झटका


सुलभ पर साथ ही यह भी आरोप लगा की की वह गेटवे ऑफ इंडिया पर आनेवाली महिला पर्यटको से शौचालय का इस्तेमाल करने के लिए 5 -5 रुपये लेता था। राईट टू पी के तहत पिशाब करने के लिए आपको किसी भी तरह के पैसे देने की जरुरत नहीं होती। बीएमस के एक अधिकारी ने इसका स्टींग ऑपरेशन किया था। ए विभाग के सहायक आयुक्त किरण दिघावकर ने बताया की पहले भी शौचालय के मैनेजमेंट को एक बार नोटीस भेजा गया था, लेकिन नोटीस के बाद भी शौचालय मैनेजमेंट ने कोई खास ध्यान नहीं दिया।


(मुंबई लाइव ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें) 



Loading Comments