आरे मामला- सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई

छात्रों के एक प्रतिनिधिमंडल ने रविवार को चीफ़ जस्टिस को पत्र लिखकर पेड़ों की कटाई के मामले में संज्ञान लेने का अनुरोध किया था।

SHARE

मुंबई की ऑरे कॉलोनी में जंगल कटाई का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। बॉम्बे हाईकोर्ट द्वारा पेड़ कटाई रोकने को लेकर दी गई याचिका को खारिज करने के बाद छात्रों ने इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। हालांकी बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले के बाद ही शुक्रवार की रात को प्रशासन ने पेड़ो की कटाई शुरु कर दी ,जिसका लोगों ने काफी विरोध किया। छात्रों के एक प्रतिनिधिमंडल ने रविवार को चीफ़ जस्टिस को पत्र लिखकर पेड़ों की कटाई के मामले में संज्ञान लेने का अनुरोध किया था।

ज़मीन हड़पने की कोशिश

पर्यावरण प्रेमी आरे में पेड़ काटने का लगातार विरोध कर रहे है।  पर्यावरण प्रेमियों का कहना है कि आरे में कारशेड की योजना ज़मीन हड़पने के लिए है।अपनी याचिका में छात्रों ने कहा कि है कि जिस तरह से पर्यावरण को दरकिनार कर बड़े स्तर पर पेड़ों की कटाई की जा रही है उसे समय रहते रोका जाना जरूरी है। राज्य सरकार के इस फैसले का शुरू से पर्यावरण विद और अन्य स्थानीय लोग विरोध कर रहे हैं।

विशेष पीठ का गठन 

सुप्रीम कोर्ट के जज दशहरा के लिए 7 से 12 अक्टूबर तक छुट्टी पर हैं। ऐसे में कोर्ट ने अपनी वेबसाइट पर पोस्ट किए गए एक नोटिस में कहा कि 6 अक्टूबर, 2019 को पत्र के आधार पर 7 अक्टूबर, 2019 को सुबह 10 बजे एक विशेष पीठ का गठन किया गया है। यहीं पीठ इस मामले की सुनवाई करेगी। 

यह भी पढ़े- आने वाली पीढ़ी रहे स्वस्थ्य तो प्लास्टिक बंद करना ही पड़ेगा

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें