Advertisement

वर्तमान कोरोना स्थिति के कारण, अंतिम वर्ष की परीक्षाएं लेना संभव नहीं है - उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत


वर्तमान कोरोना स्थिति के कारण, अंतिम वर्ष की परीक्षाएं लेना संभव नहीं है - उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत
SHARES

राज्य में कोविड -19 के बढ़ते मामलों के कारण, रोगियों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है।  इसलिए, वर्तमान कोरोना स्थिति के कारण विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के संशोधित दिशानिर्देशों के अनुसार, अंतिम वर्ष की परीक्षाएं आयोजित करना संभव नहीं है, उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने  एक संवाददाता सम्मेलन में ये बात कही। 


मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की एक बैठक में राज्य में कोविड-19 के बढ़ते प्रसार और अंतिम वर्ष की परीक्षाओं पर विस्तार से चर्चा हुई।  उसके बाद मंत्रालय में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने निर्णय की घोषणा की। उदय  सामंत ने कहा कि परीक्षा नहीं कराना सरकार की भूमिका नहीं है। राज्य सरकार का कहना है कि  राज्य में कोविड -19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए ऐसी स्थिति में परीक्षा आयोजित उचित नही है । 

सभी 13 गैर-कृषि विश्वविद्यालयों के कुलपतियों ने सरकार को लिखित रूप से सूचित किया है कि इस स्थिति में परीक्षा आयोजित करना उचित नहीं होगा।  वहीं, अभिभावक और शिक्षक भी तुरंत परीक्षा देने का विरोध कर रहे हैं।  इसलिए, गैर-पेशेवर पाठ्यक्रम की अंतिम वर्ष की परीक्षा तुरंत छात्रों के स्वास्थ्य के लिए उपयुक्त नहीं है।  यदि यूजीसी हमें दिशा-निर्देश देता है, तो क्या यह भी जिम्मेदारी लेगा? 


छात्रों का वर्ष बर्बाद नहीं किया जाना चाहिए, इसलिए उन्हें उचित फॉर्मूले का उपयोग करके अपने परिणाम घोषित करने चाहिए और जिन छात्रों को लगता है कि उन्हें कम अंक मिले हैं, उन्हें परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा क्योंकि कोविड -19 की व्यापकता कम होने के बाद स्थिति में सुधार हो सकता है।



संबंधित विषय
Advertisement