Advertisement

मेट्रो के बहाने सरकार आरे की जमीन हड़पना चाहती है- वंचित आघाड़ी


मेट्रो के बहाने सरकार आरे की जमीन हड़पना चाहती है- वंचित आघाड़ी
SHARES

आरे के समर्थन में कई राजनीतिक दल हैं जो मेट्रो कारशेड के विरोध में सरकार के निर्णय के खिलाफ हैं. अब इनमें एक और नाम  वीबीए  यानी वंचित बहुजन अगाड़ी (VBA) का भी जुड़ गया है। वीबीए के प्रवक्ता अरुण सावंत ने एक प्रेस कांफ्रेस में  कहा कि सरकार मेट्रो कारशेड के बहाने आरे की जमीन को हड़पना चाहती है।

सावंत ने आगे कहा कि उनकी पार्टी आरे के जंगलों और ग्रामीणों का समर्थन करती रहेगी। उन्होने आगे कहा कि यह पर्यावरण से जुड़ा हुआ बड़ा मुद्दा है इसीलिए इसका राजनीतिकरण करना उचित नहीं होगा।

सावंत ने सरकार पर यह भी आरोप लगाया कि सरकार लोगों के जीवन में धीमा जहर घोलने का काम कर रही है और इतने सारे पेड़ काट रही है जिससे अंततः हमें प्रदूषित हवा में सांस लेनी पड़ेगी।

सावंत ने शिवसेना के रुख को ढोंग बताते हुए कहा कि इस मुद्दे पर शिवसेना का रुख पहले की तरह ढोंग था, शिवसेना ने ही आरे में रॉयल पाम्स रिसॉर्ट के निर्माण का समर्थन दिया था, अब वे केवल वोट पाने के लिए ऐसा कर रहे हैं।

सावंत ने कहा बीजेपी और शिवसेना दोनों एक ही सरकार में है, एक तरफ मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस इस को समर्थन दे रहे हैं तो वहीं शिवसेना  पेड़ों को काटने का विरोध कर रही है।

Read this story in मराठी or English
संबंधित विषय
Advertisement