Advertisement

मुंबई: फर्जी टीकाकरण मामले में रोज हो रहे हैं नए खुलासे, फिर सामने आई हैरान करने वाली बात

बीएमसी (BMC) प्रशासन ने आगे बताया कि इसके अलावा हीरानंदानी सोसाइटी कैंप में इस्तेमाल होने वाले टीकों की खुराक गुजरात के दमण और दीव भेजी जानी थी।

मुंबई: फर्जी टीकाकरण मामले में रोज हो रहे हैं नए खुलासे, फिर सामने आई हैरान करने वाली बात
SHARES

कांदिवली में हीरानंदानी हाउसिंग सोसाइटी में हुए फर्जी वैक्सीनेशन (fake vaccination) मामले में एक बार फिर से चौकानें वाला खुलासा हुआ है। नगरपालिका के अधिकारियों ने इंडिया टुडे को बताया कि सोसायटी में जो टीका लगाया गया था वो नकली नहीं बल्कि असली था। बीएमसी (BMC) प्रशासन ने आगे बताया कि इसके अलावा हीरानंदानी सोसाइटी कैंप में इस्तेमाल होने वाले टीकों की खुराक गुजरात के दमण और दीव भेजी जानी थी।

कुछ दिन पहले कांदिवली में हीरानंदानी हाउसिंग सोसाइटी में टीकाकरण शिविर का आयोजन किया गया। लेकिन नागरिकों को कोविशील्ड डोज लगाने के बाद उनके मोबाइल पर कोई संदेश नहीं आया। साथ ही सर्टिफिकेट में भी कई गलतियां थी। जिसके बाद नागरिकों ने इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस जांच में टीकाकरण घोटाला सामने आया।

BMC ने यह पता लगाने के लिए सीरम संस्थान से जानकारी भी मांगी थी कि टीकाकरण शिविर में नागरिकों को टीका लगाया गया था या कुछ और। साथ ही BMC ने यह भी पूछा था कि शिविर में इस्तेमाल होने वाले टीके संस्थान द्वारा किस अस्पताल को दिए गए।

सीरम संस्थान (serum institute) ने इस संबंध में BMC को जो सूचना दी उसके मुताबिक कैंप के लिए इस्तेमाल होने वाले टीके गुजरात के दमण और दीव भेजे जाने थे। BMC ने मुंबई पुलिस को यह जानकारी दी है।

बीएमसी के एक अधिकारियों ने कहा, "अगर किसी अस्पताल को वैक्सीन की खुराक दी गई है, और क्या उस अस्पताल ने हीरानंदानी सोसाइटी में आयोजित कैंप के लिए डोज दी थी, इसकी जांच की जाएगी। अगर ऐसा नहीं होता है, तो पुलिस जांच करेगी कि आरोपी को वैक्सीन की खुराक कैसे मिली?”

अधिकारी के अनुसार, “इस बात से कोई इंकार नहीं है कि टीकों की कालाबाजारी की जा रही है। हम जांच कर रहे हैं कि क्या इन टीकों को टीकाकरण केंद्रों से शिविरों में भेजा गया था। यदि वैक्सीन की खुराक राज्य के बाहर से लाई गई है, तो उस शहर में आपूर्ति का तरीका जानना आवश्यक है।”

इस बीच राज्य सरकार की तरफ से बॉम्बे हाई कोर्ट (bombay high court) को बताया गया कि, मुंबई में नकली टीकाकरण शिविरों के माध्यम से 2,000 से अधिक लोगों को नकली टीका लगाया गया है। राज्य सरकार ने यह जानकारी लोगों को कोरोना का टीका लगवाने में आ रही दिक्कतों को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान दी।

यह भी पढ़ें: फर्जी कोरोना सेंटर के माध्यम से 2 हजार लोगों को लगाया गया नकली टीका, राज्य सरकार ने कोर्ट को दी जानकारी

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें