मुंबई को पानी पहुंचानेवाले जलाशयों में 85.68 प्रतिशत हुआ पानी

सात झीलों में से, तुलसी, तानसा और मोदक सागर पहले ही ओवरफ्लो होने लगे हैं।

SHARE

जुलाई के महीने में भारी बारिश ने आखिरकार मुंबई के लिए मानसून का मौसम बना दिया है। जुन के आखिर और जुलाई में हुई बारिश के कारण मुंबई में को पानी पहुंचानेवाले  सात झीलों में जल स्तर 85.68 प्रतिशत तक बढ़ गया है, जो कि 12,40,122 मिलियन लीटर (एमएल) है। पिछले साल इसी दिन पानी का स्टॉक 83.30 फीसदी था। 

जलाशयों के आसपास लगातार अच्छी बारिश होने के कारण  झीलों का जल स्तर ऊपर जा रहा है। सात झीलों में से, तुलसी, तानसा और मोदक सागर पहले ही ओवरफ्लो होने लगे हैं। मध्य वैतरणा झील भी धीरे धीरे भरने लगी है। विहार झील अपनी सीमा तक भर गई।

इस बीच, एहतियात के तौर पर सोमवार शाम को कुछ पानी छोड़ने के लिए भाटसा झीलों के स्पिलवे गेट को एक मीटर खोला गया। ओवरफ्लो मार्क से जल स्तर अभी भी कई मीटर दूर है। बीएमसी के हाइड्रोलिक विभाग द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार, सात जलाशयों का कुल जल भंडार वर्तमान में 85.68 प्रतिशत है, जो 12,40,122 एमएल है। 

शहर को 14,47,363 एमएल पानी की आवश्यकता है जो अगले मानसून तक चलेगा।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें