लोकल ट्रेन, बस तो नहीं धुआं धुआं पर आगे क्या ...?

 Mumbai
लोकल ट्रेन, बस तो नहीं धुआं धुआं पर आगे क्या ...?

आज वर्ल्ड नो टोबैको डे (अंतर्राष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस) है। ऐसा देखा गया है कि आज के दिन ज्यादातर लोग तंबाकू छोड़ने की शपथ लेते हैं। साथ ही कई लोग इसमें सफल भी हो जाते हैं। तंबाकू शरीर के सभी अंगो जैसे ह्रदय  रक्त वाहिकाओं, फेफड़े, आंख, मुंह, प्रजनन अंग, हड्डी, मूत्राशय, और पाचन अंगों को नुकसान पहुंचाती है। वैसे तो महाराष्ट्र में तंबाकू बैन है। फिर भी लोग मुंबई को धुआं धुआं करने से नहीं चूकते। तंबाकू व धूम्रपान उत्पादों के सेवन से देशभर में प्रतिघंटा 137 लोग अपनी जान गंवाते हैं। बावजूद इसके लोग इसके सेवन को ना करने से बाज नहीं आते।

अगर हम मुंबई की बात करें तो बीते कुछ सालों में लोगों के भीतर तंबाकू के प्रति जागरुकता आई है। एक वक्त था जब मुंबई की बस, ट्रेन और हरेक पब्लिक प्लेस में सिगरेट जतली नजर आती थी। लोग कहीं भी सिगरेट पीते और कहीं भी फेकते थे। पर आज ऐसा नहीं हैं, आप यह खुद ही महसूस करते होंगे कि लोकल ट्रेन, बीएसटी बस, मंदिर, रेलवे स्टेशन व अन्य पब्लिक प्लेस में कोई भी व्यक्ति धूम्रपान करते नजर नहीं आता। सरकार और समाजिक संस्थानों के अलावा इसमें आम आदमी का भी बड़ा सहयोग है। क्योंकि ऐसी जगह पर किसी ने सिगरेट पीने की कोशिश की है तो आम आदमी ने टोका है। टोकने और और सरकार द्वारा दंड वसूलने का नतीजा यह हुआ कि पब्लिक प्लेस में धूम्रपान लगभग पूरी तरह से बंद हो गया। पर ऐसा नहीं है कि मुंबई धूम्रपान रहित हो गई है। आज भी लोग जमकर धूम्रपान करते हैं।

सिगरेट छोड़ने के आसान तरीके

दृढ़ संकल्प

कहते हैं दुनियां में कोई भी काम असंभव नहीं होता, महत्वपूर्ण होता है दृढ़ संकल्पित होना। तो फिर क्या है इसी वक्त से तय कर लें कि नहीं पीना है सिगरेट। यहीं से आपका सफर शुरु हो जाता है।

चंचल मन को उलझाएं

दृढ़ संकल्प के बाद भी आपका मन आपको भटकाएगा। आप जलती सिगरेट देख पीने के लिए ब्याकुल हो जाएंगे। पर आपको अपने मन को भटकाना होगा, किसी काम में व्यस्त करना होगा। खासकर आप ऐसी चीजें ना पिएं जिन्हें आप सिगरेट के साथ पीते थे। जैसे शराब, कॉफी और कोल्ड ड्रिंक।

च्युइंग गम चबा ले

मुंह को ब्यस्त रखेंगे तो सिगरेट की याद नहीं आएगी। इसलिए आप च्युइंग गम चबाते रहें।  

सही रणनीति

अगर आपको सिगरेट की लत लग गई थी और आपने इसे छोड़ने का सोचा है, तो राह इतनी आसान नहीं होगी इसलिए एक रणनीति के साथ काम करें। अगर आप दिनभर में 10 सिगरेट पीते थे, तो 7 में आ जाएं फिर 5 और धीरे धीरे 2-1 में और धीरे धीरे करके छोड़ दें।

सिगरेट के पैसों का गिफ्ट

खुद को शाबाशी देने से ना चूंकें। क्योंकि आपने खुद के लिए बहुत बड़ा कदम उठाया है। इसलिए समय समय पर जितने पैसे आपने सिगरेट छोड़ने से बचाए हैं, उतने का खुद के लिए गिफ्ट खरीद लें।

Loading Comments