माहिम दरगाह पर भव्य मेला

माहिम -  ये है माहिम के बाबा मखदूम शाह माहिमी की दरगाह... जहां बाबा की दरगाह पर सजदा करने वालों का हमेशा तांता लगा रहता है... 13 तारीख से शुरू होने वाले मेले में सभी धर्मों के लोग यहां बाबा की दरगाह पर दुआएं मांगने पहुंचेंगे.. 10 दिन तक चलने वाले इस मेले में अकीदतमंद फातिहा पढ़ेंगे और चद्दर चढ़ाएंगे... इस आयोजन में दरगाह कमेटी के साथ मुंबई पुलिस भी सहभागी होती है... सामाजिक सौहार्द के प्रतीक मकदूमशाह बाबा की मजार पर पहली चादर मुंबई पुलिस द्वारा चढ़ाई जाती है... पुलिस को सबसे पहले चद्दर चढ़ाने का मौका देने के पीछे अलग-अलग मत हैं.. कुछ लोगों का कहना है कि बाबा मकदूम शाह माहिम पुलिस स्टेशन में ही रहते थे.. तो कुछ लोगों का मानना है कि बाबा के अंतिम समय में एक सिपाही ने उन्हें पानी पिलाया। आतंकवाद के खिलाफ भी दरगाह कमेटी सक्रिय रहती है और मुंबई पुलिस के साथ मिलकर अपनी जिम्मेदारी निभाती है... कहा जाता है की मजार पर लगने वाला मेला 600 साल पुराना है... श्रद्धालु बाबा की मजार पर फूल और इत्र चढ़ाते हैं। उर्स के दौरान पुलिसकर्मी और दरगाह कमेटी मिल कर एक कव्वाली का भी आयोजन करती हैं। इस मेले में झूलों के अलावा लजीज व्यंजन का लुत्फ उठाया जा सकता है...

Loading Comments