फेरीवालों के खिलाफ दर्ज हुए 22 हजार केस

जिन स्टेशनों के बाहर सर्वाधिक कार्रवाई हुई उसमें कल्याण, दादर, ठाणे, कुर्ला, बोरीवली, अंधेरी, दहानू जैसे रेलवे स्टेशन शामिल हैं।

SHARE


मुंबई के एलफिंस्टन रेलवे स्टेशन पर हुए भगदड़ हादसे के बाद सभी रेलवे स्टेशनों और परिसरों से फेरीवालों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए इन्हें रेलवे स्टेशन के परिसर से 150 मीटर की दुरी पर रहने के लिए कहा गया था। इसके बावजूद फेरीवालों द्वारा नियमों का उल्लंघन किया जाता है। जनवरी से लेकर सितंबर महीने तक यानी इन 9 महीने में नियमों का उल्ललंघन करने पर लगभग 22 हजार फेरीवालों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए केस दर्ज किया गया। जिन स्टेशनों के बाहर सर्वाधिक कार्रवाई हुई उसमें कल्याण, दादर, ठाणे, कुर्ला, बोरीवली, अंधेरी, दहानू जैसे रेलवे स्टेशन शामिल हैं।

कहाँ कितनी कार्रवाई?
पिछले 9 महीने में मध्य रेलवे ने 10 हजार 232 फेरीवालों के खिलाफ केस दर्ज किया। इसमें कल्याण से सबसे अधिक कार्रवाई हुई, कल्याण में 1673 फेरीवालों के खिलाफ कार्रवाई हुई, जबकि ठाणे में 813, कुर्ला में 457 फेरीवालों पर कार्रवाई हुई। इसके अलावा पश्चिम रेलवे मार्ग पर कुल 12 हजार 15 फेरीवालों पर कार्रवाई हुई, जिसमें बोरीवली में 1207, अंधेरी में 712 और दहानू में 1424 और दादर में 284 फेरीवाले शामिल हैं।


आंकड़ों की नजर में देखें तो.

पश्चिम रेलवे 

वर्ष 
दर्ज हुए केस 
जुर्माने की रकम  
कारावास
२०१७ 
१२,९०२ 
१ करोड़  ८ लाख ४२ हजार ६८० 
१५
२०१८
१२,७६४
८७ लाख १७ हजार ४३०  
११
२०१९ 
१२,०१५
४९ लाख ६२ हजार ९७०
७९

मध्य रेलवे 

वर्ष
 दर्ज हुए केस  
 जुर्माने की रकम  
कारावास
२०१७
२२,६६७
१ कोटी ३४ लाख ३६ हजार २९० 
५८७
२०१८
१२,१९०
१ कोटी १ लाख ७२ हजार ४९०   
२०८
२०१९
१०,२३२
९० लाख ४२ हजार ५४० 
३२


 पढ़ें: अब रेलवे प्लेटफॉर्म पर सामान बेचेंगे वैध फेरीवाले

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें