दो महीने पहले दफनाई गयी महिला की लाश को अब पुलिस ने निकाला बाहर

दो महिना पहले दफनाये गये रोहिणी के शव को पुलिस कब्जे में ले लिया है और उसे मुंबई लाकर जे.जे अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाने के लिए भेज दिया है।

SHARE

शादी के लिए दबाव बना रही प्रेमिका से छुटकारा पाने के लिए प्रेमी ने अपने दो साथियों की मदद से पहले प्रेमिका का अपहरण किया फिर उसकी हत्या कर दी। अब इस मामले में सभी आरोपी पुलिस की गिरफ्त में है।

मानखुर्द इलाके की रहने वाली युवती रोहिणी घोरपड़े वाशी स्थित सरकारी अस्पताल में काम करती थी। 14 नवंबर को उसने अपने घर वालों को बताया कि वह अपने मित्र के यहां शादी में जा रही है, लेकिन फिर वह वापस नहीं लौटी।

इसके बाद रोहिणी के परिजनों ने 16 नवंबर को उसके लापता होने की शिकायत पुलिस में दर्ज कराई। जब पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू की तो पुलिस को पता चला कि उसका अफेयर उसके साथ काम करने वाले सुनील शिर्के नामके एक शख्स के साथ था जो कि लापता था। यही नहीं पुलिस को जांच में रोहिणी का मोबाइल भी नही मिल रहा था, साथ ही पुलिस को इसकी भी जानकारी मिली कि कुछ दिन पहले उसके खाते से एटीएम के द्वारा 65 हजार रुपए निकाले गये थे। पुलिस ने जब एटीएम में लगे सीसीटीवी की जांच की तो वहां भी आरोपी का चेहरा स्पष्ट नजर नहीं आ रहा था।

लेकिन जब पुलिस ने एटीएम के बाहर लगे सीसीटीवी की जांच की एक जगह आरोपी का चेहर स्पष्ट नजर आ गया। पुलिस ने जब उस व्यक्ति की पहचान निकाली तो उसकी पहचान राम माधव के नाम से हुई जो बराबर सुनील के संपर्क में था।

पुलिस के अनुसार राम माधव कोपरखैराने इलाके में केबल चलाने का काम करता है। जब पुलिस ने राम माधव की मोबाइल लोकेशन ट्रैक की तो उसका लोकेशन सतारा बता रहा था जहां राम माधव का गांव है। पुलिस ने जाल बिछा कर वहां से राम माधव, सुनील शिर्के सहित विजय मोरे नामके एक और शख्स को गिरफ्तार किया।

पुलिस की पूछताछ में सुनील ने पुलिस को बताया कि रोहिणी उससे शादी करना चाहती थी, लेकिन वह रोहिणी से शादी नहीं करना चाहता था। रोहिणी द्वारा लगातार शादी का दबाव बनाने के बाद सुनील ने रोहिणी को रास्ते से हटाने का प्लान बनाया और इस काम में उसने अपने दोनों साथियों राम माधव और विजय सिंह की भी मदद ली। घटना वाले दिन सुनील और उसके दोनों साथियों ने रोहिणी को धोखे से रायगढ़ के शिरसाड गांव लेकर गये। वहां उन्होंने रोहिणी की गला दबा कर हत्या कर दी और उसकी डेडबॉडी को वहीँ दफना कर भाग खड़े हुए।

दो महिना पहले दफनाये गये रोहिणी के शव को पुलिस कब्जे में ले लिया है और उसे मुंबई लाकर जे.जे अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाने के लिए भेज दिया है। अब पुलिस गिरफ्तार तीनों आरोपियों के खिलाफ आगे की कार्रवाई में जुट गयी है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें