मुंबई में CAA के विरोध से जुड़ा अजीब मामला आया सामने

देश में इस समय CAA और NRC को लेकर काफी विरोध चल रहा है, तो कई लोग इसके समर्थन में भी हैं। CAA और NRC से जुड़ा एक बेहद ही अजीब मामला मुंबई में सामने आया है।

मुंबई में CAA के विरोध से जुड़ा अजीब मामला आया सामने
SHARES


देश में इस समय CAA और NRC को लेकर काफी विरोध चल रहा है, तो कई लोग इसके समर्थन में भी हैं। CAA और NRC से जुड़ा एक बेहद ही अजीब मामला मुंबई में सामने आया है। दरअसल एक यात्री द्वारा CAA और NRC का विरोध करना उबर ड्राईवर को इतना नागवार गुजरा कि उसने अपनी गाड़ी पुलिस स्टेशन की तरफ मोड़ ली और पुलिस से यात्री को गिरफ्तार करने की मांग करने लगा। इस मामले को आल इंडिया प्रोग्रेसिव वूमन एसोसियेशन की सचिव कविता कृष्णन ने ट्वीटर पर भी पोस्ट किया जिसके बाद यह वायरल हो रहा है।

क्या है मामला?

मिली जानकारी के अनुसार जयपुर के रहने वाले कवि बप्पादित्य सरकार 3 फरवरी से मुंबई में शुरू हुए काला घोड़ा फेस्टिवल में आए थे। वहां घूमने के बाद बप्पादित्य सरकार CAA और NRC के विरोध में हो रहे रैली में शामिल होने के लिए नागपाड़ा चले गये। वहां से अपने मित्र के घर जाने के लिए उन्होंने उबर बुक किया। 

उबर से यात्रा करने के दौरान ही बप्पादित्य सरकार और टैक्सी चालक के बीच CAA और NRC को लेकर चर्चा होने लगी। उबर ड्राईवर CAA और NRC का समर्थन कर रहा था तो बप्पादित्य सरकार इस कानून के खिलाफ बोल रहे थे। CAA और NRC के खिलाफ बोलना उस उबर ड्सराईवर को इतना नागवार गुजरा कि उसने अपनी गाड़ी सांताक्रूज स्टेशन की तरफ मोड़ ली। और वहां जाने पर उसने बप्पादित्य सरकार से कहा कि, उसे ATM से पैसे निकालने हैं वह अभी आता है' कह कर पुलिस स्टेशन गया और उसने पुलिस से सरकार को गिरफ्तार करने की मांग करने लगा।

जब पुलिस मामला समझने के लिए सरकार के पास आई तो पुलिस ने सरकार को सारी बात बताई, मामला सुनने के बाद सरकार डर गये।

पुलिस के सामने ही उबर ड्राईवर सरकार को कहने लगा कि, तुम लोग देश द्रोही हो, तुम्हारी वजह से ही देश खतरे में है। हम लोग चुप नहीं बैठेंगे।  

 यही नहीं रोहित सिंह ने सरकार द्वारा किये गये बात की रिकॉर्डिंग अपने मोबाइल में भी कर ली थी, और उसने सबूत के तौर पर उसे पुलिस के सामने भी पेश किया।

पुलिस ने भी सरकार के समान की जांच की और उनसे पूछताछ की, आखिर में एक वकील के हस्तक्षेप के बाद सरकार को पुलिस ने छोड़ दिया।  

सरकार ने बताया कि, पुलिस ने उनके सामान की तलाशी ली और उनका वाट्सऐप भी चेक किया. साथ ही कहा कि, गले में लाल स्कार्फ मत बांधो और डफली भी साथ लेकर मत चलो, समय खराब चल रहा है।

हालाँकि पुलिस ने सरकार के खिलाफ कोई भी मामला दर्ज नहीं किया।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय