मुंबई पुलिस के "कंसोल"से , नहीं छुपेगी अपराधियों की पहचान !

 Mumbai
मुंबई पुलिस के "कंसोल"से , नहीं छुपेगी अपराधियों की पहचान !

मुंबई पुलिस की तुलना हमेशा स्कॉटलैंड यार्ड से की जाती है। मुंबई पुलिस के जवान नशीले पदार्थो की रोक के साथ साथ खतरनाक गुंडे को पकड़ना, संगठित अपराधियों को पकड़ना जैसे कई कार्य करने पड़ते है। बावजूद इसके ये अपराधी कभी पेराल, तो कभी फर्लो पर बाहर आ जाते है। और फिर जल्दी वापस नहीं आते। इतना ही कई बार तो ये अपना नाम बदलकर अलग अलग अपराधो को अंजाम देने लगते है जिससे इनके पहले के अपराध के बारे में कोई कुछ ना जान सके।

लेकिन मुंबई पुलिस एक अत्याधुनिक नविनीकरण प्रणाली का उपयोग कर रही है, जो पूरी तस्वीर को ही पलट देगा। इस प्रणाली का नाम है ABMIS। इस प्रणाली के तहत अब जांच अधिकारी के पास पकड़े गए आरोपी की पूरी कुंडली होगी, जिससे अधिकारी अपराधी के बारे में सारी जानकारी एक ही जगह पा सकेंगें और वो भी बहुत ही कम समय में।

कैसे काम करता है ABMIS
स्वचालित बॉयोमीट्रिक पहचान प्रणाली सानी की एबीएमआईएस, के तहत सभी पुलिस स्टेशनों में एक डेस्कटॉप कंसोल दिया जाएगा। इस कंसोल में आरोपी की हर एक जानकारी होगी। इस कंसोल में आरोपियों की फोटो ली जाएगी। जिसके बाद उसके आखों और हाथों के उंगलियों के भी निशान लिए जाएंगे। और अपराधी के सारे अपराध की जानकारी इस कंसोल में फिट की जाएगी। इस कंसोल को मुंबई पुलिस के मुख्य सर्वर से जोड़ा जाएगा। जहां से कोई भी जांच अधिकारी किसी भी आरोपी के विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकता है।

अपराधियों की पहचान होगी और भी आसान
कई बार कई अपराधी अपने पुराने अपराधिक रिकॉर्ड से बचने के लिए चेहरे की सर्जरी कराते है साथ ही अपना नाम और पता दोनों बदल देते है, लेकिन मुंबई पुलिस की इस पहल के बाद ऐसे अपराधियों को पकड़ना और भी आसान हो जाएगा।

डाउनलोड करें Mumbai live APP और रहें हर छोटी बड़ी खबर से अपडेट।

मुंबई से जुड़ी हर खबर की ताज़ा अपडेट पाने के लिए Mumbai live के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।

(नीचे दिए गये कमेंट बॉक्स में जाकर स्टोरी पर अपनी प्रतिक्रिया दे) 

Loading Comments