'बॉम्बे' कहना पड़ा भारी

 Mumbai
'बॉम्बे' कहना पड़ा भारी

केरल के कुछ लोगों को 'बॉम्बे' कहना काफी भारी पड़ गया। दरअसल ये सभी मलयाली में बात कर रहे थे और 'बॉम्बे' को बोम्ब कह रहे थे, संदिग्ध परिस्थितों के चलते पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया और पूछताछ कर रही है। छत्रपति शिवाजी टर्मिनस स्टेशन पर गवर्नमेंट रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने 6 संदिग्धों को हिरासत में लिया है। इन सभी को एक पैसेंजर की शिकायत के बाद पकड़ा गया। केरल के रहने वाले ये लोग बातचीत के दौरान मलयालम में बार-बार 'बॉम्बे' बोल रहे थे। पैसेंजर ने इसे 'बम' समझ लिया जिसके बाद उसने जीआरपी को इन्फॉर्म किया। फिलहाल इनसे पूछताछ जारी है।  घटना सोमवार शाम की है।

प्राप्त खबर के अनुसार केरल के रहने वाले 6 शख्स पनवेल-सीएसटी लोकल ट्रेन में ट्रैवल कर रहे थे। उसी दौरान एक अन्य यात्री को उनकी आपसी बातचीत संदेहजनक लगी, जिस पर उसने जीआरपी को सूचना दी। सूचना के आधार पर जीआरपी ने इन्हें हिरासत में ले लिया।हिरासत में लिए गए लोगों की पहचान मोहम्मद यूनिस यूएस, मोहम्मद ए सिद्दीकी , अदिश , अब्दुल रउफ मोहम्मद  और यूनिस के.के के तौर पर हुई है। सभी की उम्र 20 से 30 साल तक की है

पुलिस की जांच के अनुसार वे पहली बार मुंबई आए हैं। पुलिस को इनके पास से मलयालम लैंग्वेज में कुछ वीडियो और डाक्युमेंट्स मिले हैं। पुलिस डाक्युमेंट्स का ट्रांसलेशन करवा रही है। जांच का हवाला देते हुए जीआरपी ऑफिशियल्स ने इस मामले में कुछ भी ज्यादा बोलने से इनकार कर दिया।

जीआरपी के मुताबिक यह सभी सोमवार को तिरुवनंतपुरम से लोकमान्य तिलक टर्मिनस (एलटीटी) स्टेशन नेत्रवती एक्सप्रेस से पहुंचे थे। यहां से सीएसटी जाने के लिए इन्होंने लोकल ट्रेन पकड़ी थी। सीएसटी स्टेशन से उतर कर ये जेजे हॉस्पिटल के पास बनी मस्जिद में जाने वाले थे। वहां रहकर ये कुछ दिन उर्दू सीखने वाले थे। इसके बाद इनका महाराष्ट्र के रत्नागिरी जाने का प्लान था। सीएसटी जीआरपी ने पूछताछ के बाद इन्हें कुर्ला जीआरपी को सौंप दिया, जहां से रात 10 बजे इन्हें वाशी गवर्नमेंट रेलवे पुलिस को सौंपा गया। सूत्रों के मुताबिक महाराष्ट्र एटीएस और क्राइम ब्रांच को भी इन संदिग्धों की जानकारी दे दी गई है।

Loading Comments