Advertisement

डब्बा वालों के साथ ठगी, कई पदाधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज

आरोप है कि कई डब्बा वालों के साथ किसी और ने नहीं बल्कि डब्बा वाले एसोसिएशन के ही पदाधिकारियों ने ही ठगी की है। इस मामले में डब्बा वालों ने घाटकोपर पुलिस ने शिकायत दर्ज कराई है।

डब्बा वालों के साथ ठगी, कई पदाधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज
SHARES
Advertisement

समय पर खाना पहुंचाने के लिए मुंबई के डब्बा वाले पूरी दुनिया में मशहूर हैं, लेकिन अब इन डब्बा वालों के साथ ही धोखा धड़ी करने का मामला सामने आया है। आरोप है कि कई डब्बा वालों के साथ किसी और ने नहीं बल्कि डब्बा वाले एसोसिएशन के ही पदाधिकारियों ने ही ठगी की है। इस मामले में डब्बा वालों ने घाटकोपर पुलिस ने शिकायत दर्ज कराई है।

क्या है मामला?

दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक डब्बा वाले एसोसिएशन के पदाधिकारी विठ्ठल सावंत, प्रवक्ता सुभाष तलेकर और दशरत केदारी ने साल 2015 में सभी डब्बा वालों की एक मीटिंग ली। उस मीटिंग में इन लोगों ने सभी से कहा कि, कई डब्बा वाले पैदल चलते हैं और कई लोग साइकिल से, जिसकी वजह से ग्राहकों तक पहुंचने में समय लगता है, इसीलिए एसोसिएशन ने निर्णय लिया है कि सभी को कम पैसे में TVS मोपेड स्कूटी उपलब्ध कराई जाएगी, जिससे लोगों को अपने गंतव्य तक पहुंचने में आसानी होगी।

आरोपों के अनुसार इन पदाधिकारियों ने सभी डब्बे वालों को स्कूटी का लालच देकर सभी से एक कागज पर साइन करा लिया और लोगों ने भी विश्वास में आकर साइन कर दिया क्योंकि अधिकांश डब्बा वाले पढ़े लिखे नहीं हैं।

आरोपों में आगे कहा गया है कि, इन पदाधिकारियों ने महीने भर में नवी मुंबई के एक भैरवनाथ पंतसंस्था के जरिये डब्बा वालों के नाम पर कुछ संख्या में मोपेड लिया और उसे किसी और को बेच दिया।

लेकिन इस बात का पता तब उस समय चला जब अधिकांश डब्बे वालों को भैरवनाथ पंतसंस्था की तरफ से मोपेड का लोन चुकाने के लिए नोटिस आया। इस नोटिस के पाते ही डब्बा वालों के होश उड़ गए, क्योंकि उन्हें अभी तक कोई भी मोपेड नहीं मिला था और उन्हें मोपेड की किश्त चुकाने के लिए उन्हें नोटिस मिली थी।

जब उन्होंने इस बाबत पदाधिकारियों से सवाल पूछा तो सभी ने आनकानी करते हुए कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दिया। इसके बाद डब्बावालों ने इस बात की शिकायत घाटकोपर पुलिस में की। पुलिस ने भी मामला दर्ज करते हुए आगे की जांच में जुट गयी है।

इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए डब्बा वाले एसोसिएशन के प्रवक्ता सुभाष तलेकर ने कहा कि, यह मुझे बदनाम करने की साजिश है। मेरे खिलाफ झूठी शिकायत दर्ज की गयी है।

हालांकि अब सही क्या है और क्या गलत इस बात का खुलासा पुलिस जांच के बाद ही सामने आ पाएगा।

संबंधित विषय
Advertisement