अब भी जिंदा है इंसानियत ।

बांद्रा - बांद्रा के बेहराम पाड़ा में इंसानियत की जीती जागती मिशाल देखने को मिली । जहां तीन मुस्लिम युवको ने पूरे हिंदू रिवाज के साथ हिंदू व्यक्ति का अंतिम संस्कार किया । बेहराम पाड़ा में रहनेवाले 63 वर्षीय अनिल कुमार मिश्र की किसी कारण मौत हो गई । अनिल का लड़का भायंदर में रहता था । खबर सुनते ही लड़का सीधा बेहराम पाड़ा पहुंचा । अनिल के बेटे ने अपने पिता के शव को भायंदर ले जाने की बात कही ।लेकिन अनिल की पत्नि को ये पसंद ना आया । अनिल की पत्नी ने उनके शव का अंतिम संस्कार बांद्रा में ही कराने का फैसला किया । जिसे देखते हुए वहां पर मौजूद तीन मुस्लिम युवक मोहम्मद रशीद(40), इम्तियाज अली(32) और अब्दूल रहमान (36) ने अनिल के शव को कंधा देकर श्मशान पहुंचाया । इन तीनों मुस्लिम युवकों ने ही पास से एक पंडित को बुलाकर पूरे हिंदू रीति-रिवाज के साथ का अंतिम संस्कार कराया ।अनिल के शव को उनके लड़के ने मुखाग्नि दी । जहां एक तऱ देश में नफरत की राजनीति की जाती है तो वही दूसरी तरफ इन तीनों मुस्लिम युवको ने एक साथ मिलकर इंसानियात के साथ साथ एकता की भी मिशाल पेश की है ।

Loading Comments