मनसे महासचिव संदीप देशपांडे को मिली जमानत

पूर्व पार्षद संतोष धुरी, शशांक नागवेकर , संतोष साली और संदीप देशपांडे को सरकारी काम में बाधा डालने के लिए गिरफ्तार किया गया था।

SHARE

मनसे के महासचिव संदीप देशपांडे को दादर-माहिम में लगाए गए कंदिल को हटाने के विवाद के मामले में जमानत मिल  गई है। तीन दिनों की अदालती हिरासत के बाद, देशपांडे को 15,000 रुपये के निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया। सत्र न्यायालय ने संदीप देशपांडे को जमानत दे दी। पूर्व पार्षद संतोष धुरी, शशांक नागवेकर संतोष साली और संदीप देशपांडे को सरकारी काम में बाधा डालने के लिए गिरफ्तार किया गया था।

क्या था मामला

दादर-माहिम में मनसे द्वारा लगाए गए कंदिल को असिस्टेंट कमिश्नर किरण दिघावकर ने हटा दिया। संदीप देशपांडे ने किरण दिघावकर पर इस मामले में पक्षपाती होने का आरोप लगाया। इसके साथ ही संदीप देशपांडे पर अधिकारियों के साथ गाली गलौच करने का भी आरोप है।  बीएमसी अधिकारियों द्वारा पुलिस में शिकायत दर्ज कराने के बाद संदीप देशपांडे को शिवाजी पार्क पुलिस ने हिरासत में ले लिया। संदीप देशपांडे पर सरकारी काम में बाधा डालने और अधिकारियों को गाली देने का आरोप लगाया गया था।


संदीप देशपांडे पर शिवाजी पार्क पुलिस स्टेशन में भारतीय दंड संहिता की धारा 353 के तहत आरोप लगाए गए थे। संदीप देशपांडे को मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट पीएस काले  14 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में रखने का आदेश दिया था।  


संबंधित विषय
ताजा ख़बरें