'सनबर्न फेस्टिवल' में हमले की साजिश रचने और नालासोपारा हथियार मामले में एक आरोपी पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार

एटीएस के अनुसार, नालासोपारा हथियार मामले में भी हजारा की तलाश थी। उन्हें इस बात की खबर लगी कि हजारा नामा बदल कर पश्चिम बंगाल में रह रहा है। इसके बाद एटीएस ने उसे पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना के नैनापुर से गिरफ्तार किया।

SHARE
 
 

पुणे में हुए 'सनबर्न म्यूजिक फेस्टिवल' में हमले की साजिश रचने के आरोप में महाराष्‍ट्र ऐंटी टेररेज्‍म स्क्वॉड (ATS) ने पश्चिम बंगाल से एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी का नाम साद जुदिष्टर हजारा उर्फ प्रताप हजारा (34) है। इसके अलावा 2018 अगस्त में नालासोपारा में बरामद किए गए हथियारों के केस में भी ATSको हजारा की तलाश थी। बताया जाता है कि हजारा ने अन्य आरोपियों को बम बनाने का प्रशिक्षण दिया करता था. इस मामले में अब तक 12 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

एटीएस के अनुसार, नालासोपारा हथियार मामले में भी हजारा की तलाश थी। उन्हें इस बात की खबर लगी कि हजारा नामा बदल कर पश्चिम बंगाल में रह रहा है। इसके बाद एटीएस ने उसे पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना के नैनापुर से गिरफ्तार किया। कोर्ट ने आरोपी को 30 जनवरी तक कस्टडी में भेज दिया है। एटीएस अधिकारियों का कहना है कि जांच से पुलिस को अन्य आरोपियों तक पहुंचने में मदद मिलेगी।

पुणे में साल 2017 में हुए 'सनबर्न फेस्टिवल' में हमले की साजिश रची गयी थी, लेकिन इस बात की खबर समय रहते ATS को मिल गयी। इस साजिश में मुख्य आरोपी और सनातन संस्‍था के बैभव राउत और उसके अन्य सहयोगी के शामिल होने की खबर जब ATS को मिली तो आरोपियों की धरपकड़ होने लगी।

इस मामले में ATS ने मुख्य आरोपी और सनातन संस्‍था के वैभव राऊत सहित श्रीकांत पांगारकर, शरद कलसकर और सुधन्वा गोंधलेकर नामके कुल 4 लोगों को गिरफ्तार किया। ATS को शरद कलसकर के पास से एक लैपटॉप भी मिला, जब उसकी जाँच की गयी तो ATS को चौकानें वाली खबर मिली। ये चारों लोग 'सनबर्न फेस्टिवल' सहित फिल्म 'पद्मावत' के शो के दौरान बम ब्लास्ट करके लोगों को मौत के घाट उतारना चाहते थे।

आपको बता दें कि, सनबर्न एक ऐसा इवेंट हैं जिसमें कई युवक और युवतियां म्यूजिक पर नाचते हैं। बताया जाता है कि यहाँ नशीले पदार्थ का सेवन भी खुले आम होता है। इस कल्चर को भारत के कल्चर पर हमला बताते हुए वैभव राऊत और उसके गिरोह के लोग यहां हमला करने की साजिश रच रहे थे। हालांकि यह प्लानिंग सफल नहीं हो सकी थी। 

गौरतलब है कि 10 अगस्‍त 2018 को एटीएस ने सनातन संस्‍था से जुड़े सदस्‍य राउत के नालासोपारा स्‍थ‍ित बंगले से 20 न‍िष्‍क्र‍िय बम, ज्‍वलनशील पदार्थ, सहित संदिग्ध दस्‍तावेज बरामद क‍िए थे। ATS के अनुसार आरोपी इन हथ‍ियारों और बारूदों से राज्‍य में कथित रूप से आतंकी घटना को अंजाम देने की फ़िराक में थे।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें