गैंगस्टर विकास दुबे के दो साथी मुंबई से गिरफ्तार

मुंबई एटीएस की पूछताछ में इन दोनों आरोपियों ने कई सनसनीखेज खुलासा करने का दावा किया जा रहा है, साथ ही इन दोनों के बयान से विकास दुबे के अन्य साथियों के भी पता चलने की संभावना बढ़ गई है।

गैंगस्टर विकास दुबे के दो साथी मुंबई से गिरफ्तार
SHARES

यूपी में हुए एनकाउंटर में मारे गए कुख्यात अपराधी विकास दुबे (vikas dubey) के तार अब मुंबई से जुड़ गए हैं। शनिवार को मुंबई ATS ने विकास दुबे (Vikas Dubey) के दो अन्य साथियों को मुंबई के जुहू (juhi) इलाके से गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान गुड्डन त्रिवेदी और सोनू तिवारी के तौर पर की गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार महाराष्ट्र एटीएस चीफ देवेन भारती के निर्देश पर मुंबई एटीएस के पुलिस असिस्टेंट इंस्पेक्टर दया नायक की टीम को शुक्रवार रात को कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे के कुछ साथी मुंबई के जुहू इलाकेमें छिपे होने की सूचना मिली।सूचना मिलने के बाद ATS नेे मोस्ट वांटेड अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी (46) एवं उसके ड्राइवर सुनील कुमार उर्फ सोनू तिवारी (34) को अरेस्ट किया है ।

मुंबई एटीएस के अनुसार अरविंद कानपुर पुलिस के एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर विकास दुबे का करीबी सहयोगी है। यूपी के कानपुर में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या में भी वह शामिल था। इसके अलावा साल 2001 में यूपी के कानपुर में हुुए राज्यमंत्री संतोष शुक्ला के मर्डर में भी इसके शामिल होने की बात कही जा रही है।

मुंबई एटीएस की पूछताछ में इन दोनों आरोपियों ने कई सनसनीखेज खुलासा करने का दावा किया जा रहा है, साथ ही इन दोनों के बयान से विकास दुबे के अन्य साथियों के भी पता चलने की संभावना बढ़ गई है।

आपको बता दें कि, कानपुर एनकाउंटर केस का मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे 10 जुलाई को पुलिस एनकाउंटर में मारा गया था। यूपी एसटीएफ ने एक बयान में शुक्रवार को बताया कि टीम विकास दुबे को लेकर जैसे ही कानपुर पहुंची, वह गाड़ी में सुरक्षाकर्मियों का पिस्तौल छीनने लगा। इसी बीच गाड़ी का बैलेंस बिगड़ गया और गाड़ी पलट गई। गाड़ी पलटते ही विकास दुबे भागने लगा और पुलिस पर फायरिंग भी की। पुलिसकर्मियों ने अपने बचाव में गोलियां चलाईं जिससे विकास दुबे घायल हो गया। विकास दुबे को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया ।

हालांकि अब उसके एनकाउंटर को लेकर काफी सवाल उठ रहे हैं, लोग जांच की भी मांग कर रहे है।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय