मकर संक्रांति के दिन पतंग पकड़ना पड़ा भारी, 10 वर्षीय बच्चे की हुई मौत

फायर ब्रिगेड के पहुंचने तक कोई कुछ नहीं कर पाया। वहीँ पास की बिल्डिंग में काम कर रहे मजदूरों ने क्रेन की मदद से बच्चे को बाहर निकाला। लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

मकर संक्रांति के दिन पतंग पकड़ना पड़ा भारी, 10 वर्षीय बच्चे की हुई मौत
SHARES

मकर संक्राति के दिन पतंग (kite) उड़ाने की पुरानी परंपरा है। लेकिन पतंग उड़ाने, दुुसरे की पतंग काटनेे और फिर उसी कटी पतंग (kati patang) को पकड़ने के दौरान हादसे भी घटित होते हैं।

इसी तरह के हादसे से जुड़ी एक खबर सामने आई है। खबर के मुताबिक, मकर संक्रांति के दिन कांदिवली में एक 10 वर्षीय बच्चा कटी हुई पतंग को पकड़ने के दौरान हादसे का शिकार हो गया, जिससे उसकी मौत हो गई। इस बच्चे का नाम दुर्वेश जाधव था।

बताया जाता है कि, गुरुवार दोपहर दुर्वेश अपने अन्य करीबी दोस्तों के साथ पतंग उड़ाने के लिए घर से निकला था। इसी खेल में एक कटी पतंग को पकड़ने के लिए दुर्वेश उसके पीछे भागा।

वह पतंग उड़ते उड़ते गोबर से भरे एक टाकी में जा गिरी। चूंकि ऊपर से गोबर सूखा हुआ था, लेकिन उसके नीचे दलदल जैसा था। इसका अंदाजा दुर्वेश को नहीं हुआ और वह गोबर को सूखा हुआ जानकर उसके ऊपर कूद गया और अंदर चला गया। यह देखकर आसपास के लोग दुर्वेश को बचाने के लिए दौड़े लेकिन उस टाकी में कूदने की हिम्मत किसी की नहीं हुई। जबकि इसी दौरान दुर्वेश अंदर से छटपटा रहा था।

बेबस होकर लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। लेकिन पुलिस भी परिस्थिति के आगे लाचार नजर आई। इसके बाद फायर ब्रिगेड वालों को बुलाया गया।

फायर ब्रिगेड के पहुंचने तक कोई कुछ नहीं कर पाया। वहीँ पास की बिल्डिंग में काम कर रहे मजदूरों ने क्रेन की मदद से बच्चे को बाहर निकाला। लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

दुर्वेश को कांदिवली के एक अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।इस मामले में पुलिस ने ADR दर्ज कर लिया है। अब पुलिस मामले की आगे जांच कर रही है।

Read this story in English or मराठी
संबंधित विषय
मुंबई लाइव की लेटेस्ट न्यूज़ को जानने के लिए अभी सब्सक्राइब करें