कांग्रेस सांसद हुसैन दलवाई के नाम से ठगी, 3 विदेशी गिरफ्तार

पीएम नरेंद्र मोदी एक तरफ तो ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के लिए काफी जोर देते हैं लेकिन दूसरी तरह इन ऑनलाइन ट्रांजेक्शन से होने वाली ठगी को रोकने के लिए कोई पुख्ता इंतजाम नहीं करते हैं।

कांग्रेस सांसद हुसैन दलवाई के नाम से ठगी, 3 विदेशी गिरफ्तार
SHARES

पीएम नरेंद्र मोदी एक तरफ तो ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के लिए काफी जोर देते हैं लेकिन दूसरी तरह इन ऑनलाइन ट्रांजेक्शन से होने वाली ठगी को रोकने के लिए कोई पुख्ता इंतजाम नहीं करते हैं। इस बार इस ऑनलाइन ठगी का शिकार हुए हैं कांग्रेस के सांसद हुसैन दलवाई। अफ़्रीकी मूल के तीन विदेशी नागरिकों ने दलवाई का ईमेल हैक करके कई लोगों से पैसों की डिमांड की, जिनमे से एक शख्स ने 70 हजार रुपए भी भेज दिए। मामला सामने आने के बाद पुलिस ने इन अफ़्रीकी मूल के इन तीनों विदेशी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।


क्या था मामला?

साइबर क्राइम पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक़ पहले तो इन तीनों आरोपियों ने कांग्रेस सांसद हुसैन दलवाई का ईमेल अकाउंट हैक किया फिर उसके बाद हुसैन के जान-पहचान के लोगों से मदद के नाम पर पैसे की मांग की। मेल हैक करने के बाद दलवाई के परिचितों को ई-मेल भेजा गया जिसमें लिखा गया था कि, मैं हुसैन दलवाई फिलहाल अमेरिका में हूं और मेरे परिवार के एक सदस्य के ऑपरेशन के लिए तुरंत पैसों की जरूरत है। मुझसे मोबाइल पर संपर्क की कोशिश न करें और तत्काल मेरे अकाउंट में 50 से 60 हजार रूपए जमा कर दें। ईमेल के साथ एक बैंक खाता भी दिया गया था।

दलवाई के एक पहचान के डॉक्टर अजित कुलकर्णी ने बिना कोई जांच के इस ईमेल को सच मान बैठे और उन्होंने ईमेल के साथ दिए गए बैंक खाते में 70 हजार रुपये ट्रांसफर भी कर दिए।


इस तरह हुआ खुलासा 

दलवाई के पहचान के कई लोगों ने जब उन्हें फोन करके उनकी जानकारी लेनी चाही तो फिर इस ठगी का पता चला। इसके बाद मामला पुलिस को सौंप दिया गया। पुलिस की साइबर टीम ने जब जांच शुरू की तो डॉ.कुलकर्णी का भी मामला सामने आया। इसके बाद दिए गए बैंक खाते की जब डिटेल्स निकाली गई तो वह खाता दिल्ली का निकला। इसके बाद पुलिस की टीम ने दिल्ली जाकर तीनों विदेशी नागरिकों कोनाते मोहम्मद (31), ओकपेईफोह मायकल (31) और ओत्तरा एन गोलहाऊद (32) को गिरफ्तार किया।

पुलिस को इनके पास से एक लैपटॉप, पेन ड्राइव, डोंगल, मोबाइल और एटीएम कार्ड्स के अलावा 70 हजार रुपये भी बरामद हुए। साइबर विभाग के अधिकारी अकबर पठान ने बताया कि इन तीनों आरोपियों को कोर्ट ने 2 नवंबर तक पुलिस की हिरासत में भेज दिया है।

Read this story in मराठी
संबंधित विषय