विवाहेत्तर संबंधों के चलते दादर में हुआ था मर्डर

दोस्त होने के कारण अनिल महेंद्र के घर भी आता जाता था। अनिल का महेंद्र की पत्नी के साथ चक्कर भी चल रहा था। यह बात जेल में बंद महेंद्र को पता चली तो वह काफी नाराज हुआ।

SHARE

दादर में 9 मार्च के दिन हुए मर्डर मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। महेंद्र सोलंकी और गणेश वाघेला नामके दो आरोपियों को मुंबई सेंट्रल इलाके से पकड़ा गया। खुलासे में यह बात सामने आई कि यह मर्डर अवैध संबंधों के चलते हुई थी जिसे महेंद्र ने अपने दोस्त गणेश के साथ मिल कर अंजाम दिया था।

क्या था मामला?
मृतक अनिल धारावी में अपनी पत्नी से अलग होकर मां और बच्चे के साथ रहता था। बताया जाता है कि अनिल और आरोपी महेंद्र दोनों अच्छे दोस्त थे और कुख्यात आरोपी भी। दोनों ने एक साथ कई आपराधिक वारदातों को अंजाम दिया था। इसीलिए दोनों के खिलाफ विभिन्न पुलिस स्टेशनों में कई मामले भी दर्ज थे। इसी एक मामले में महेंद्र जेल में था, और अनिल जमानत पर छूटा हुआ था। दोस्त होने के कारण अनिल महेंद्र के घर भी आता जाता था। अनिल का महेंद्र की पत्नी के साथ चक्कर भी चल रहा था। यह बात जेल में बंद महेंद्र को पता चली तो वह काफी नाराज हुआ। जब महेंद्र भी जमानत पर छूट कर बाहर आया तो उसके अंदर बदले की भावना सुलग रही थी। 

अनिल की तलाश में महेंद्र उसके भाई के घर वडाला गया। वहां उसने अनिल के भाई सुनील को समझाते हुए कहा कि वह अनिल से कहे कि वो उसकी पत्नी से दूर रहे और उससे मिलना जुलना छोड़ दे। लेकिन कुछ दिन बाद महेंद्र को इसकी भनक लग गयी कि अनिल अभी भी उसकी पत्नी से मिल रहा है। बस फिर क्या था, महेंद्र को पता चला कि अनिल दादर स्टेशन के यहां सो रहा है। महेंद्र ने वहां जाकर अनिल के सिर पर लोहे के रॉड से हमला किया, जिसकी सायन अस्पताल में दो दिन बाद इलाज के दौरान मौत हो गयी।

संबंधित विषय