हत्या को दिया आत्महत्या का रूप, इस तरह से सच्चाई आई सामने

5 अप्रैल की रात को अचानक टेरिस से गिर कर विजेंद्र की मौत हो जाती है। उसे तत्काल राजावाड़ी अस्पताल ले जाया जाता है जहां डॉक्टर उसे मृत घोषित कर देते हैं। इसके बाद सभी यही कयास लगाते हैं कि विजेंद्र ने नशे की हालत में आत्महत्या कर ली।

SHARE

छोटी सी बात पर कुछ बदमाशों ने एक व्यक्ति को बिल्डिंग के ऊपर से फेंक दिया जिससे व्यक्ति की मौत हो गयी। मौत के बाद सभी आरोपियों ने इस हत्या को आत्महत्या का रूप देने की कोशिश की लेकिन एक चश्मदीद महिला के कारण मामले का खुलासा हुआ। जिसके बाद पुलिस ने एक को गिरफ्तार किया। 

क्या था मामला?

बताया जाता है कि मानखुर्द के MPG परिसर में स्थित विजय मंगल सोसायटी में पीड़ित विजेंद्र उर्फ़ राज सिंह अपने परिवार के साथ रहता था। विजेंद्र को शराब की भी लत थी और वह अक्सर नशे की हालत में बिल्डिंग के टेरिस पर ही सो जाया करता था। 5 अप्रैल की रात को अचानक टेरिस से गिर कर विजेंद्र की मौत हो जाती है। उसे तत्काल राजावाड़ी अस्पताल ले जाया जाता है जहां डॉक्टर उसे मृत घोषित कर देते हैं। इसके बाद सभी यही कयास लगाते हैं कि विजेंद्र ने नशे की हालत में आत्महत्या कर ली।

लेकिन जब पुलिस ने जाँच करना शुरू किया तो पुलिस ने आखिर सच का खुलासा कर ही दिया। उसी बिल्डिंग में रहने वाली एक महिला ने पुलिस को बताया कि, उसने एक व्यक्ति को यह कहते सुना था कि, राज ने आज झगड़ा किया है मैं उसे नहीं छोड़ूंगा। महिला ने पुलिस को बताया कि उस व्यक्ति के साथ एक और भी व्यक्ति था और दोनों व्यक्तिबिल्डिंग के टेरिस की ओर गए थे। 

महिला की निशानदेही पर जब पुलिस ने उन दोनों व्यक्तियों को गिरफ्तार किया तो सारी सच्चाई खुल कर बाहर आ गयी। पुलिस ने दोनों आरोपियों को संबंधित धारा के तहत गिरफ्तार कर लिया। मुख्य आरोपी का नाम विनायक उर्फ़ विनोद राजा गौड़ (25) है। अब पुलिस इनके खिलाफ आगे की कार्रवाई कर रही है।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें