इस्तेमाल करते है एटीएम कार्ड, तो जरुर पढ़े ये खबर!

एटीएम कार्ड़ की क्लोनिंग करवाले गिरोह का पर्दाफाश

SHARE

हम कई बार होटल में जाने के बाद बिल का भूगतान करने के लिए अपने कार्ड को वेटर को ही दे देते है , लेकिन अगर आप भी ऐसा करते है तो हो जाईये सावधान। मुलुंड पुलिस ने एक ऐसे ही गिरोह का पर्दाफाश किया है जो होटल के वेटर्स से एटीएम कार्ड लेकर उसकी क्लोनिंग करता था और फिर ग्राहको के पैसे निकाल लेता था। पुलिस ने इस मामले में करण सूरेश टंडन (32), मारुती बर्मा गुडाजी(24) नाम के दो आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है। इसके साथ ही पुलिस इस मामले में तीसरे आरोपी तुकाराम गुडाजी की तलाश भी कर रही है।

कैसे काम करता था ये गिरोह
बिलों का भूगतान करने के लिए हम जिस एटीएम कार्ड को स्वाइप मशीन में डालते है, उस जगह पर स्किमर लगाकर पिन नंबर को देखने के लिए एक छोटा सा कैमरा लगाया जाता था। डेटा चोरी करने के बाद एटीएम कार्ट की एक नकली कॉपी बनाई जाती थी और उससे पैसों की धोखाधड़ी की जाती थी। डेटा लेने के बाद एटीएम कार्ड की क्लोनिंग की जाती थी, क्लोनिंग करने के बाद डेटा तुकाराम गुडाजी को देता था, जिसके बाद क्लोनिंग की सहायता से डुप्लीकेट कार्ड तैयार किया जाता था। 

यह भी पढ़े- गैगस्टर रवि पूजारी ने फिर दी व्यापारी को धमकी।

पैसों की लालच
विक्रोली पार्क साइट के एक होटल में काम करनेवाला करण , कुर्ला के हनुमान मंदिर इलाके में रहता था। होटल में ग्राहक बिलों का भूगतान करने के लिए उसे एटीएम कार्ड और पीन देते थे। फटाफट पैसे कमाने की लालच में करण ने एटीएम कार्ड की क्लोनिंग का रास्ता चुना। क्लोनिंग करके वह ग्राहको के एटीएम कार्ड से पैसे निकालने लगा।

जब करण होटल में आए एक कस्टमर के साथ इसी तरह की धोखाधड़ी की तो उसने मुलुंड पुलिस में शिकायत दर्जा कराई, जिसके बाद पुलिस ने करण सूरेश टंडन (32), मारुती बर्मा गुडाजी(24) को गिरफ्तार किया।

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें