मुंबई में है एक जापान, जहां का है अनोखा इतिहास

हैरान करने वाली बात यह है कि यहां का पुजारी एक जापानी है। तो जिस मंदिर में इतनी सारी खासियत हो वहां कौन नहीं जाना चाहेगा।

मुंबई में है एक जापान, जहां का है अनोखा इतिहास
SHARES

 मुंबई जैसे शहर में शांति पाने के लिए दूर देश या फिर विदेश तक घूमने के लिए जाते हैं। लेकिन मुंबई में ही एक ऐसा मंदिर है जहां के कण-कण में एक अजीब तरह की शांति है। वैसे तो यह मंदिर अधिक विख्यात नहीं है लेकिन यहां की अलौकिक शांति में शामिल होने के लिए एक बार यहां जाना चाहिए। वैसे एक बात और चौकानें वाली है कि यह बौद्धों का मंदिर है, दूसरी चौकानें वाली बात यह है कि इस इसे जापानियों ने बनाया था, तीसरी चौकानें वाली बात यह है कि यहां हिंदी, इंग्लिश के अलावा अभी भी जापानी भाषा में भी सूचनाएं और जानकारियां लिखी हुई हैं, चौथी हैरान करने वाली बात यह है कि यहां का पुजारी एक जापानी है। तो जिस मंदिर में इतनी सारी खासियत हो वहां कौन नहीं जाना चाहेगा।

अब आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि, भला मुंबई के ऐसा मंदिर कहाँ है? तो आपको बता दें कि यह मंदिर मुंबई के वर्ली इलाके में है। वर्ली इलाके में पोद्दार हॉस्पिटल के ठीक सामने। इस बौद्ध मंदिर का नाम है ‘निप्पोजन म्योहोज। वैसे तो इस मंदिर की देखरेख ढाले परिवार के हाथ में है और अपने पति राजाराम ढाले की मौत के बाद यशोदा ढाले इसकी देखरेख करती हैं। लेकिन मंदिर और का संचालन करते हैं जापानी नागरिक और बौद्ध भिक्षु 'टी मोरिता'। जो मंदिर में जापानी पद्धति से पूजा पाठ कराते हैं।

इस मंदिर से ही सटा हुआ एक जापानी कब्रिस्तान भी है, जहां अब कोई दफनाया नहीं जाता। इस बारे में मोरिता कहते हैं कि, मोरिता कहते हैं, "इस कब्रिस्तान में अब मुर्दों को यहाँ दफ़न नहीं किया जाता क्योंकि जापानी लोग अब पार्थिव शरीर को वापस जापान ले जाते हैं।"

वे आगे इतिहास के बारे में जानकारी देते हुए कहते हैं कि, जब जापानी व्यावसायी मुंबई में कपास का व्यापार करने आए थे तो उनके साथ जापान की मशहूर ‘गीशा’ औरतें भी थीं। ‘गीशा’ औरतों को जापानी मर्द दिल बहलाने के लिए ग़ुलामों या फिर वेश्याओं की तरह इस्तेमाल करते थे।

मोरिता के मुताबिक 'गीशा' औरतों को मैं वेश्या नहीं अदाकारा कहूंगा क्योंकि जापानी भाषा में 'गीशा' का अर्थ कलाकार होता है।"