Advertisement

'आश्रम' की आड़ में बाबा निराला ही नहीं बल्कि इस स्वामी ने भी उड़ाए दर्शको के होश

आश्रम में बाबा निराला की बुरी नियत पर से तो पर्दा उठ ही गया है, लेकिन अगर भोपा स्वामी की कूटनीतियों की बात करें तो बिना कुछ ज्यादा कहे ही भोपा का डंका दर्शको के सर चढ़ कर बोल रहा हैं।

'आश्रम' की आड़ में बाबा निराला ही नहीं बल्कि इस स्वामी ने भी उड़ाए दर्शको के होश
SHARES

आश्रम में बाबा निराला की बुरी नियत पर से तो पर्दा उठ ही गया है, लेकिन अगर भोपा स्वामी की कूटनीतियों की बात करें तो बिना कुछ ज्यादा कहे ही भोपा का डंका दर्शको के सर चढ़ कर बोल रहा हैं।

जी हां, ढोंगी काशीपुरवाले बाबा निराला के कारनामों ने कई लोगों को निशब्द कर दिया है, लेकिन स्वार्थी भोपा स्वामी आपको निश्चित ही अचंभित कर देगा। विरोध करने वालों को शांत कर देने वाले उसके तरीके, ज़्यादातर मामलों में ज़िंदगी और मौत से जुड़े बड़े फैसले करते समय उसकी शांतचित्त मुद्रा, और कुल मिलाकर ढोंगी काशीपुरवाले बाबा निराला का दाहिना हाथ माने जाने वाले आदमी के तौर पर आश्रम के लिए उसके अथक समर्पण वाली भूमिका की सब खूब तारीफ कर रहे हैं।

हमने अपने पाठकों के लिए बेहद पंसद किए गए क्राइम ड्रामा – आश्रम में निष्ठुर भोपा की भूमिका निभाने वाले व्यक्ति की कहानी सामने लाने की कोशिश की और उनका कहना इस प्रकार है :  

इस भूमिका के बारे में उन्होंने कैसे तैयारी की, यह पूछे जाने पर चंदन ने कहा, “लगभग डेढ़ साल पहले इस रोल के लिए मुझे प्रकाश झा प्रॉडक्शन्स द्वारा संपर्क किया गया था और मुझे बताया गया कि मुझे एक क्रूर बाबा, जिसकी भूमिका बॉबी देओल कर रहे हैं, का दाहिना हाथ माने जाने वाले साथी का किरदार निभाना होगा। मुझे जो बताया गया था उसके तहत मुझे बाल बढ़ाने, एक प्रांतीय भाषा की शिक्षिका सुनीताजी के साथ मेरे उच्चारण पर काम करने, स्क्रिप्ट रीडिंग के कुछ सेशन में शामिल किया गया और मैं भोपा की भूमिका निभाने के लिए तैयार हो गया था- वह ठंडे दिमागवाला, कुशल, शातिर और क्रूर मोहरा है, वह भी एक ऐसे बाबा के लिए जो उतना ही निर्दयी है। ”

चंदन ने कहा कि निर्देशक प्रकाश झा की ओर से केवल यही अन्य ब्रीफिंग दी गई कि वो किसी भी चीज़ को ज़रुरत से ज़्यादा न करे और उसे भी इसी तरह किरदार निभाना पसंद है। उन्‍होंने विस्‍तार से बताते हुए कहा, “आम तौर पर विलेन उनकी बंदूकें लहराते हुए और गालियाँ बकते हुए लार्जर दैन लाइफ किरदारों के रुप में सामने आते हैं। मैं भोपा स्वामी के किरदार में शालीनता लाना चाहता था- वह इतना शक्तिशाली है कि उसे खुदे के बारे में नाटकीय होने की ज़रुरत ही नहीं है।” 

किरदार की संवेदनशीलता और विवादास्पद विषय ने भी चंदन को आकर्षित किया, उन्‍होंने कहा, “मैं इस एमएक्स ओरिजिनल सीरीज़ में एक धोखेबाज की भूमिका निभा रहा हूँ और यह भूमिका ऐसी थी कि यदि मैंने इसे गलत तरीके से निभाया होता तो मुझे दर्शकों से काफी गुस्से का सामना करना पड़ता क्योंकि यह उनकी आस्था और आध्यात्मिक मान्यताओं के बारे में है।”

यह भी पढ़ें: अक्षय कुमार ने यूट्यूबर पर ठोका 500 करोड़ का मानहानि का केस

इस 9 भाग के क्राइम ड्रामा में दिखाए जाने वाले भ्रष्ट तरीकों के बारे में चंदन ने कहा, “एक ऐसे शो का होना महत्वपूर्ण है जो लोगों को याद दिलाता है कि आस्था रखें लेकिन शोषणात्मक बर्ताव के प्रति अंधे भी ना रहें। ऐसे लोग उन सीधे-सादे लोगों की आस्था को शिकार बना रहे हैं और असली आध्यात्मिक गुरुओं और अपराधियों के बारे में अंतर समझना महत्वपूर्ण है जो आध्यात्मिकता की आड़ में लोगों को धोखा दे रहे हैं। ”

लगातार मिल रही तारीफों से चंदन बेहद खुश हैं और ‘आश्रम दूसरा अध्याय- गहराते रहस्य’ की ज़बरदस्त सफलता के लिए वे पूरी टीम को बधाई दे रहे हैं। ‘आश्रम दूसरा अध्याय- गहराते रहस्य’ को एमएक्स प्लेयर पर एक्स्क्लूसिव तरीके से मुफ्त में स्ट्रीम किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:  MAYDAY में रकुल प्रीत की हुई एंट्री, बिग बी और अजय देवगन के साथ आएंगी नजर

संबंधित विषय
Advertisement