Interview: मैं बचपन से ही बॉलीवुड एक्टर बनना चाहती थी: एली अवराम

एली अवराम ने इंटरव्यू में बताया मैं अक्सर बॉलीवुड फिल्में देखा करती थी, मुझे बॉलीवुड फिल्में बेहद पसंद थी। मेरे दोस्त मुझे बोला करते थे क्यों देखती हो बॉलीवुड फिल्में, मैंने बोला, मुझे पसंद है और मैं बॉलीवुड जाना चाहती हूं।

  • Interview: मैं बचपन से ही बॉलीवुड एक्टर बनना चाहती थी: एली अवराम
  • Interview: मैं बचपन से ही बॉलीवुड एक्टर बनना चाहती थी: एली अवराम
  • Interview: मैं बचपन से ही बॉलीवुड एक्टर बनना चाहती थी: एली अवराम
SHARE

बिग बॉस  से सुर्खियों में आई एली अवराम ने ‘मिकी वायरस’ और ‘किस किस को प्यार’ करुं जैसी फिल्मों में काम किया है। साथ ही उन्होंने कुछ फिल्मों में आइटम सॉन्ग भी किए हैं। मूलत: स्वीडन की यह एक्ट्रेस 30 सितंबर को दर्शकों के सामने सिल्विया नानावटी के किरदार में नजर आने वाली हैं। जी हां, जिस सब्जेक्ट पर अक्षय कुमार की फिल्म ‘रुस्तम’ बनी थी, उसी सब्जेक्ट को और गहराई से पिरोने की कोशिश अल्ट बालाजी की वेब सीरीज The Verdict - State vs Nanavati में की गई है। सीरीज की स्ट्रीमिंग से पहले एली ने मुंबई लाइव से खास मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने सीरीज, फिल्म और निजी जिंदगी से जुड़े सवालों का बेबाकी से जवाब दिया।

  

हिंदी सीखने में आपको कितना वक्त लगा और अब इस भाषा में कितना कंफर्टेबल हैं?

मुझे हिंदी सीखने में डेढ़ से दो साल का वक्त लगा है। मैंने कपिल शर्मा के साथ जब ‘किस किस को प्यार करूं’ फिल्म शूट की थी, उस समय मैं हिंदी में बात करती थी। मुझे याद है, जब मैं अब्बास मस्तान सर को मिली, हमने एक घंटे तक ‘बिग बॉस’ के बारे में सिर्फ हिंदी में बात की। दरअसल वे चेक करना चाहते थे कि एली काम कर पाएगी कि नहीं, क्योंकि कई बार सेट पर सीन शूट होने से 10 मिनट पहले ही डायलॉग चेंज कर दिए जाते हैं।

आपके लिए यह किरदार कितना महत्वपूर्ण है?  

आज तक जितने सारे प्रोजेक्ट्स मैंने किए हैं, उनमें से मेरा यह किरदार अब तक का सबसे मजबूत किरदार है। यह रोल बेहद ही परफॉर्मेंसेस ऑरियेंटेड है। सिल्विया नानावटी के किरदार में बहुत सारे लेयर्स और इमोशन्स हैं। वह यंग है, एक मां है और विदेशी भी है। लोगों को अभी तक लगता था कि सिलविया इंडियन थी पर दरअसल में वह ब्रिटिश थी। वह दूसरे देश से आई है, उसके बाद वह बहुत कुछ फेस कर रही है। उसके ऊपर लोग उंगली उठाते हैं, लोग कहते हैं, वह तो एक फिरंगी है। फिरंगी लोग ऐसा ही करते हैं। ऐसे केस के लिए कोर्ट में खड़ा होना जिस केस पर पूरे देश की नजर है, उसके लिए यह बहुत शर्मिंदगी भरा था। पर मेरे लिए उस किरदार को निभाना बहुत ही खूबसूरत अनुभव रहा।

आपने कब सोचा कि आपको बॉलीवुड जाना चाहिए और इसके पीछे वजह क्या थी?

मैं अक्सर बॉलीवुड फिल्में देखा करती थी, मुझे बॉलीवुड फिल्में बेहद पसंद थी। मेरे दोस्त मुझे बोला करते थे क्यों देखती हो बॉलीवुड फिल्में, मैंने बोला, मुझे पसंद है और मैं बॉलीवुड जाना चाहती हूं। मैंने मन बनाया मेरा सपना था कि कम से कम मुझे एक बॉलीवुड फिल्म में काम करना है। काम ना भी मिला तो भी कोई बात नहीं पर कोशिश जरूर करुंगी। ताकि मैं जब बूढ़ी हो जाऊं तो मेरे अंदर गिल्ट ना रहे कि मैंने अपना सपना पाने की कोशिश नहीं की।

बॉलीवुड इंडस्ट्री विदेशी लोगों के लिए कितनी वेलकमिंग है?

निश्चित ही ज्यादातर फिल्ममेकर्स के दरवाजे हरेक एक्टर के लिए खुले हैं, फिर चाहे वह भारत का हो या किसी और देश का। मुझे लगता है कि कोई कहीं से भी हो अगर वह अच्छे से हिंदी बोल सकता है और किरदार में फिट बैठ सकता है तो उसे मौका देना चाहिए। फिर चाहे वह कहीं से भी हो। बॉलीवुड भी एक दिन हॉलीवुड की तरह बनेगा वहां हर राष्ट्रीयता के लोग फिल्मों में काम करते हैं।

क्या आपने रुस्तम फिल्म देखी है और यह सीरीज उससे कितनी अलग है?

हां मैंने ‘रुस्तम’ फिल्म देखी है। पर यह सीरीज ‘रुस्तम’ से बहुत अलग है। रुस्तम का असल नाम कावस नानावटी है, जोकि हमने इस्तेमाल किया है। सिल्विया का नाम भी सिल्विया नानावटी ही रखा गया है। इस शो में आपको सभी का नजरिया देखने को मिलेगा। यह सीरीज सिर्फ सिल्विया और कावस पर बेस्ड नहीं है। इसमें पूरे देश का नजरिया दिखाया गया है।


संबंधित विषय
ताजा ख़बरें

YouTube वीडियो