'प्रजा' ने की बीएमसी स्कूलों की पोलखोल

मुंबई - प्रजा फाउंडेशन की ओर से बीएमसी स्कूलों की हालत पर एक रिपोर्ट जारी की गई है। इस रिपोर्ट में कई अहम खुलासे हुए है। रिपोर्ट में बताया गया है की बीएमसी के मराठी स्कूलों में छात्रों की संख्या में गिरावट आ रही है। प्रजा फाउंडेशन की रिपोर्ट के अनुसार -

5 सालों में 51 हजार छात्रों ने स्कूल छोड़ा

बीएमसी के 63 प्रतिशत स्कूलो की हालत खराब

2015-16 में हर 100 बच्चे पर 15 बच्चों ने स्कूल छोड़ा

बीएमसी की पढ़ाई से 55 प्रतिशत परिजन नाराज

मराठी बीएमसी स्कूल की जगह परिजन अब प्राइवेट अंग्रेजी स्कूल को कर रहे पसंद

प्रजा फाउंडेशन के संचालक मिलिंद म्हस्के का कहना है की बीएमसी सकूलों की हालत दिन ब दिन खराब होती जा रही है। बच्चे अब दूसरे स्कूलों की ओर रुख करने लगे है। कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने इस मुद्दे पर बीएमसी में सत्ताधारी शिनसेना और बीजेपी को आड़े हाथों लिया। कांग्रेस ने कहा की बीएमसी सकूलो के लिए बीजेपी और शिवसेना जिम्मेदार है। तो वही शिवसेना नगरसेविका किशोरी पेडणेकर का कहना है बीएमसी स्कूलो की स्थिती सुधारने के लिए काफी प्रयत्न कर रही है। राजनेताओं के आरोप प्रत्यारोप तो चलते ही रहेगें। लेकिन प्रजा की इस रिपोर्ट के बाद कही ना कही बीएमसी स्कूलो की स्थिती पर सवाल तो खड़ा होता है।

Loading Comments