स्कूलों के कैंटीन में जंक फूड नहीं।

 Mumbai
स्कूलों के कैंटीन में जंक फूड नहीं।

जिन छात्रों को आम तौर पर अपने स्कूल के कैंटीन में 'स्वादिष्ट भोजन' मिलता था अब उन्हे अपने इस आदत पर नियंत्रित करना होगा।राज्य सरकार ने 'एचएफएसएस भोजन' (उच्च वसा, नमक और चीनी में बने ) खानों को स्कूल की कैटीनों में प्रतिबंधित कर दिया है। स्कूल शिक्षा और खेल विभाग ने इस संबंध में सोमवार को अधिसूचना जारी की। इस आदेश के साथ, पिज्जा, बर्गर, शीतल पेय, आदि, स्कूल के कैंटीन में अब और नहीं दिखाई देंगे।

केंद्र सरकार स्कूल के छात्रों को पोषक तत्वों वाले भोजन प्रदान करने पर जोर दे रही है। सरकार ने छात्रों को ऐसे भोजन उपलब्ध कराने के लिए स्कूलों को प्रेरित करने के लिए एक समिति भी बनाई थी। समिति ने अपनी रिपोर्ट में कुछ चीजों की सिफारिश की है कि स्कूलों के कैंटीन में जंक फूड ना दिया जाए।


एचएफएसएस भोजन को मोटापे और छात्रों के बीच अन्य बीमारियों में वृद्धि के लिए जिम्मेदार माना जाता है। यह उनकी शैक्षिक प्रगति को प्रभावित करता है और इसलिए समिति ने सिफारिश की थी की इस तरह के भोजन पर प्रतिबंध लगा दिया जाना चाहिए। समिति के इस सिफारिशों के बाद, राज्य सरकार ने यह निर्णय लिया है।


स्कूल प्रिंसिपल और मैनेजमेंट को यह सुनिश्चित करना है कि स्कूल के कैंटीन में ऐसा खाना तैयार और बेचा नहीं जाए।

प्रतिबंधित खाद्य पदार्थ-
आलू के चिप्स, स्थानीय उत्पादकों द्वारा बनाई गई चिप्स
सर्बत, बर्फ गोला
कार्बोनेटेड और गैर-कार्बोनेटेड शीतल पेय
रसगुल्ला, गुलाब जामुं, मिठाई, कालकंद, जेलीज
जाम, पेस्ट्री, नूडल्स, पिज्जा, बर्गर
पानीपुरी, केक, बिस्कुट, बन्स, कैंडीज, चॉकलेट
बुनदी, इमरती इत्यादि


स्कूल कैंटीन में अब क्या दिया जाएगा?
गेहूं रोटिस, चपाती / पराठा
चावल, सब्जियां, पुलाओ, ब्लैक ग्राम, राजमा, दलहन
करि, इडली, सांभर, वादास

Loading Comments