आयटीआय की तरफ बढ़ा स्टूडेंट का झुकाव

आयटीआय में इलेक्ट्रिशियन, फिटर, मशिनिस्ट, डीजल मोटर मैकेनिक, इलेक्ट्रॉनिक्स मशिनिस्ट जैसे विविध अभ्यासक्रम सिखाए जाते हैं। साथ ही आयटीआय में पुस्तक व व्यवहारिक दोनों तरह की शिक्षा दी जाती है।

SHARE

शहर में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था होने की वजह से आयटीआय में शिक्षा प्राप्त करना अनेक विद्यार्थियों का सपना है। आयआयटी की शिक्षा प्राप्त करने के बाद स्टूडेंट तो रोजगार के अवसर उपलब्ध हो रहे हैं यही वजह है कि अनेक विद्यार्थी आयटीआय की ओर आकर्षित हो रहे हैं। साथ ही अनेक विद्यार्थी पॉलिटेक्निक डिप्लोमा को नजरअंदाज करके आयटीआय के लिए अप्लाई कर रहे हैं।

आयटीआय दसवीं के बाद केवल दो सालों का कोर्स है। इस कोर्स को पूरा करने पर बहुत से जरूरतमंद विद्यार्थियों को अच्छी नौकरी के अवसर मिलते हैं। यही वजह है कि स्टूडेंट इस ओर अधिक से अधिक आकर्षित हो रहे हैं।

2018-19 इस शैक्षणिक वर्ष में पॉलिटेक्निक के लिए 1 लाख 30 हजार 800 भर्ती उपलब्ध थी जिसमें से केवल 57 हजार 997 अप्लीकेशन ही आई हैं। वहीं आयटीआय के लिए 1 लाख 38 हजार 317 भर्ती उपलब्ध थी जिसके लिए लगभग 3 लाख 95 हजार 174 विद्यार्थियों ने अप्लाई किया है। अभी तक इस प्रक्रिया में 80 हजार विद्यार्थियों को प्रवेश मिला है।

आयटीआय में इलेक्ट्रिशियन, फिटर, मशिनिस्ट, डीजल मोटर मैकेनिक, इलेक्ट्रॉनिक्स मशिनिस्ट जैसे  विविध अभ्यासक्रम सिखाए जाते हैं। साथ ही आयटीआय में पुस्तक व व्यवहारिक दोनों तरह की शिक्षा दी जाती है।

संबंधित विषय