पद्मावत के बाद अब कंगना की फिल्म 'मणिकर्णिका' पर हो सकता है बवाल


  • पद्मावत के बाद अब कंगना की फिल्म 'मणिकर्णिका' पर हो सकता है बवाल
  • पद्मावत के बाद अब कंगना की फिल्म 'मणिकर्णिका' पर हो सकता है बवाल
  • पद्मावत के बाद अब कंगना की फिल्म 'मणिकर्णिका' पर हो सकता है बवाल
  • पद्मावत के बाद अब कंगना की फिल्म 'मणिकर्णिका' पर हो सकता है बवाल
SHARE

भावनाओं को आहत होने का आरोप लगा कर ऐतिहासिक फिल्मों को विरोध कर अपने आप को या फिर संगठन की सुर्ख़ियों में बनाये रखना एक तरह से ट्रेंड बनता जा रहा है। फिल्म पद्मावत के विरोध की चिंगारी में जहां पूरा देश झुलसा तो वहीँ अब बॉलीवुड की क्वीन कंगना रनौत की फिल्म 'मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी' का विरोध भी शुरू हो गया है। फिल्म मणिकर्णिका का विरोध सर्व ब्राह्मण महासभा कर रहा हैं। ब्राह्मण महासभा फिल्म के कुछ आपत्तिजनक सीन्स को लेकर अपना विरोध प्रकट कर रही है।


क्या हो रहा है फिल्म का विरोध?

इस महासंघ के पदाधिकारी सुरेश मिश्रा का कहना है कि है पता चला है कि यह फिल्म लेखिका जयश्री मिश्रा की विवादित किताब 'रानी' पर आधारित है। यही नहीं मिश्रा ने यह भी आरोप लगाया है कि फिल्म में रानी लक्ष्मीबाई का किरदार कंगना रनौत निभा रही है, जिनका फिल्म में एक अंग्रेज के साथ आपत्तिजनक दृश्य है।


लेखकों के नाम बताए निर्माता 

मिश्रा ने यह भी कहा कि 9 जनवरी को ही हमारी तरफ से फिल्म के निर्माता कमल जैन को चिट्ठी लिखी गयी थी जिसमें हमने मांग की थी कि फिल्म के लेखकों के नाम उगाजर किया जाए। यही नहीं मिश्रा ने यह भी मांग की है कि वे उन इतिहासकारों के बारे में भी जानना चाहते हैं जिनसे फिल्मकारों ने संपर्क किया है। 


वर्ना होगा पद्मावत जैसा हाल 

गौरतलब है कि फिल्म की शूटिंग राजस्थान के झुनझुनु में हो रही है। सुरेश मिश्रा ने राजस्थान सरकार से शूटिंग को तत्काल रोकने की मांग की है। साथ ही यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों से कोई छेड़छाड़ न की जाए। यही नहीं उन्होंने यह भी कहा है कि जब तक फिल्म निर्माता इस बात की गारंटी नहीं देते कि फिल्म में कोई आपत्तिजनक दृश्य नहीं है तब तक हम फिल्म का विरोध करते रहेंगे। इसके अलावा मिश्रा ने इस मामले में राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह और गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया से भी मामले में हस्तक्षेप करने के लिए मांग की है। मिश्रा के अनुसार अगर उनकी यह तमाम मांगे नहीं मानी गयीं तो फिल्म का पूरे देश में विरोध होगा इसका भी हाल पद्मावत जैसा होगा।


कौन है लेखिका जयश्री?

जयश्री भारतीय मूल की ब्रिटिश लेखिका हैं जिन्होंने रानी लक्ष्मीबाई पर एक किताब 'रानी' लिखी है। यह किताब काफी विवादों में छाई रही।विवादों के चलते ही इस किताब को 2008 में यूपी की तत्कालीन सीएम मायावती ने यूपी में बैन कर दिया था। जयश्री ने अपनी किताब में ईस्ट इंडिया कंपनी के रॉबर्ट एलिस नाम के एक पॉलिटिकल एजेंट से झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के बीच प्रेम संबधों का जिक्र किया है। यही कारण है कि महासंघ इस बात का विरोध कर रहा है कि फिल्म में रानी यानि कंगना और अंग्रेज के बीच लव मेकिंग सीन्स हैं।

 

संबंधित विषय
ताजा ख़बरें