आयुर्वेद से अपना उपचार करना चाहते थे सीताराम पांचाल

 Mumbai
 आयुर्वेद से अपना उपचार करना चाहते थे सीताराम पांचाल

बैंडिट क्वीन'(1995), 'स्लमडॉग मिलिनेयर'(2009), 'पीपली लाइव'(2010), 'पान सिंह तोमर' (2012) और 'जॉली एलएलबी' (2013) जैसे फिल्मों में काम कर चुके अभिनेता सीताराम पांचाल का निधन हो गया।  सिताराम पांचाल पिछलें काफी समय सें कैंसर से जुझ रहे थे।  सीताराम पंचाल का गुरुवार सुबह 8:30 बजे निधन हुआ।  

सिताराम  पिछले चार साल से किडनी और लंग कैंसर से जूझे रहे थे। इस दौरान उनका वजन घटकर 30 किलो रह गया था।  उनकी मदद के लिए सोशल मीडिया पर भी एक कैंपेन चलाया गया था।  जिसमें लोगों से मदद की अपील भी की गई थी।  

अपने अंतिम दिनों में वह आर्थिक तंगी से गुजर रहे थे।   इस वजह से उन्होंने महंगा इलाज छोड़कर आयुर्वेद से अपना उपचार करने की कोशिश की थी। इरफान खान, पाचांल के एनएसडी बैचमेट संजय मिश्रा, रोहिताश गौड़, टीवी प्रोड्यूसर (एक घऱ बनाऊंगा) राकेश पासवान जैसे कई हस्तियों ने उनकी मदद भी की थी।  

पांचाल ने अश्विनी की डेब्यू हरियाणवी फिल्म लाडो में काम किया था जिसे नेशनल अवॉर्ड मिला था।  सीताराम पांचाल का जन्‍म हरियाणा के कैथल जिले के डूंडर हेड़ी गांव में 1963 में हुआ था।  पांचाल अपने घर में अकेले कमाने वाले थे,  उनका 19 साल का एक बेटा है, जो अभी पढ़ाई कर रहा है।


Loading Comments